राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शनिवार, फ़रवरी 27, 2010

मल्लिका शेरावत तो सबसे गरीब हैं

मल्लिका शेरावत का एक बयान आया है कि वह पारदर्शी बिकनी भी पहन सकती हैं। उनके इस बयान के बाद हमें अपने राज्य में एक हास्य कवि सुरेन्द्र दुबे की एक बात याद आ गई जो उन्होंने एक कवि सम्मेलन में कहीं थी। उन्होंने बताया था कि इस देश में अगर कोई सबसे ज्यादा गरीब है तो वह मल्लिका शेरावत हैं।

दुबे जी ने बताया कि उनके पास एक गरीब महिला आई और कहने लगी कि बेटा में तो इतनी गरीब हूं कि एक साड़ी के दो टुकड़े करके पहनती हूं।

दुबे जी ने उन माता जी को जवाब दिया कि- माता जी आप कहां गरीब हैं आपसे ज्यादा गरीब तो अपनी मल्लिका शेरावत हैं जो एक साड़ी के आठ टुकड़े करके पहनती हैं।

9 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari शनि फ़र॰ 27, 06:42:00 am 2010  

हा हा!! बेचारी की दशा कितनी दयनीय है.

बी एस पाबला शनि फ़र॰ 27, 07:37:00 am 2010  

सही है
आजकल पारदर्शिता पर जोर भी तो दिया जाता है :-)

Kaviraaj शनि फ़र॰ 27, 09:12:00 am 2010  

बहुत अच्छा । सुदर प्रयास है। जारी रखिये ।

अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

http://Kitabghar.tk

अजय कुमार झा शनि फ़र॰ 27, 09:31:00 pm 2010  

ओह बेचारी गरीब ..कित्ती पतली भी हो गई कमजोरी से ही ..तभी सारे हीरो लोगों को उसे गोदी में उठा के ले जाना पडता है
अजय कुमार झा

ताऊ रामपुरिया रवि फ़र॰ 28, 12:40:00 am 2010  

आपको होली पर्व की घणी रामराम.

रामराम

शरद कोकास सोम मार्च 01, 12:10:00 am 2010  

सुरेन्द्र दुबे हमारे बड़े भैया है अब वो कह रहे है तो सही ही होगा ना ... होली की शुभकामनायें

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP