राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

रविवार, जनवरी 09, 2011

50 साल में नहीं मिला कोई शिष्य

छत्तीसगढ़ में तीरंदाजी के अर्जुन माने जाने वाले 85 वर्षीय गोदूराम वर्मा को इस बात का मलाल है कि उनको 50 साल में कोई ऐसा शिष्य नहीं मिला जो उनकी उम्मीदों पर खरा उतरता।
शब्द भेदी बाण चलाने वाले इस धनुधर ने यहां पर कहा कि उनको 35 साल की उम्र में शब्द भेदी बाण के साथ तीरंदाजी की कला सिखाने का काम  उप्र के गुरुकुल आश्रम कागड़ा के बालाकृष्ण शर्मा ने किया था। इसके बाद से ही वे इस कला के लिए कोई शिष्य तलाश रहे हैं, लेकिन उनको कोई ऐसा शिष्य नहीं मिला जो उनकी इस कला के लिए चाय, पान, सिरगरेट,, गुटखा और शराब का त्याग कर सके। श्री वर्मा कहते हैं कि इस कला के लिए यह जरूरी है। वे बताते हैं कि अब तो इतनी ज्यादा उम्र हो गई है कि वे अपनी कला का प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं। उनको अंतर रेलवे तीरंदाजी में सम्मानित किया गया। एक समय वह था जब श्री वर्मा एक पतले धागे को भी अपने तीरों से भेद देते थे। इसी के साथ वे आईने में देखकर लक्ष्य पर निशाना लगाते थे।

1 टिप्पणियाँ:

ali मंगल जन॰ 11, 07:25:00 pm 2011  

इस कला को डूबना नहीं चाहिए !

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP