राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

मंगलवार, जनवरी 18, 2011

विश्व कप हम जीतेंगे: अनिल कुम्बले

भारत के स्टार स्पिनर अनिल कुम्बले का कहना है कि भारत के पास इस बार मौका है विश्व कप जीतने का। हमारी टीम 2003 में फाइनल में भले हार गई थी, लेकिन इस बार टीम बहुत ही संतुलित लग रही है। हम इस बार विश्व कप जीतेंगे, इसकी मुझे पूरी उम्मीद है।
यहां पर परसदा के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में उन्होंने कहा कि विश्व कप के लिए तय की गई भारतीय टीम बहुत ज्यादा संतुलित है। टीम में तीन स्पिनरों का रहना टीम के लिए फायदेमंद रहेगा। पूछने पर उन्होंने कहा कि टीम में एक विकेट कीपर के होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है, किसी भी विकेट कीपर के घायल होने की संभावना कम होती है। उन्होंने कहा कि विश्व कप के भारत में होने का भारतीय टीम को जरूर फायदा मिलेगा। उन्होंने पूछने पर कहा कि मेरे हिसाब से तो 20 खिलाड़ी टीम में रहने के पात्र थे, लेकिन टीम तो 15 की ही बननी है, ऐसे में किसी न किसी को तो बाहर होना ही पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अब हम इन 15 खिलाड़ियों से उम्मीद कर रहे हैं कि ये भारत के लिए 1983 की तरह विश्व कप जीतने का कारनामा करेंगे।
रायपुर के स्टेडियम के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि वास्तव में यह बहुत अच्छा स्टेडियम है यहां पर जरूर अंतरराष्ट्रीय मैच होने चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे स्टेडियम अपने देश में बहुत कम हैं।
राजेश चौहान को किया याद
जब उनसे पूछा गया कि एक जमाने में आपकी, राजेश चौहान और वेंकटपति राजू की जैसी स्पिन तिकड़ी थी, वैसी तिकड़ी फिर नहीं बन पाई तो उन्होंने जहां यह कहा कि हर समय एक जैसा नहीं होता, वहीं राजेश चौहान के बारे में पूछा कि वे क्या कर रहे हैं। उनको बताया गया कि वे भिलाई में अपनी अकादमी चला रहे हैं। श्री कुम्बले ने कहा कि वैसे तीन स्पिनर तो विश्व कप की टीम में भी रखे गए हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ से कोई प्रस्ताव आएगा तो कर्नाटक की टीम से साथ मैच के बारे में जरूर सोचा जाएगा।
कर्नाटक को प्रतिनिधित्व न मिलने से निराश
विश्व कप की टीम में कर्नाटक के किसी खिलाड़ी को मौका न मिलने से अनिल कुम्बले बहुत निराश दिखे। वे हाल ही में कर्नाटक क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष बने हैं। उन्होंने साफ कहा कि पांच विश्व कपों में कर्नाटक का प्रतिनिधित्व रहा है, पहली बार कर्नाटक के किसी खिलाड़ी को टीम में स्थान नहीं मिल पाया है। उनको मुरली विजय के टीम में आने की उम्मीद थी, लेकिन उनको मौका नहीं मिल सका।
छत्तीसगढ़ आना अच्छा लगा
पहली बार छत्तीसगढ़ आए श्री कुम्बले ने एक सवाल के जवाब में कहा कि उनको छत्तीसगढ़ आना अच्छा लगा। उन्होंने पूछने पर कहा कि उनको जब भी याद किया जाएगा, वे यहां जरूर आएंगे।

2 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा मंगल जन॰ 18, 10:31:00 am 2011  

साक्षात्कार बढिया रहा
आभार

गगन शर्मा, कुछ अलग सा मंगल जन॰ 18, 07:19:00 pm 2011  

दुनिया के गिने-चुने भद्र क्रिकेटरों में से एक हैं कुम्बले।

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP