राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शनिवार, अप्रैल 10, 2010

मेरी पत्नी की अनुसूचित जाति की सहेली साथ में खाना बनवाती है

हमारे पड़ोस  में रहने वाली एक महिला हमेशा हमारे घर आती हैं जो कि अनुसूचित जाति हैं। वह महिला मेरी पत्नी की सहेली  हैं। यह महिला जहां हमें जीजाजी बोलती हैं, वहीं हमारे घर के किचन में कई अवसरों में मेरी पत्नी अनिता ग्वालानी के साथ खाना बनाने में हाथ भी बटाती हैं। हम लोग उनके परिवार के कार्यक्रमों में भी जाते हैं और वहां खाना भी खाते हैं।
छूआ-छूत की एक घटना ने हमारा मन इतना विचलित कर दिया है कि हमें इसको मिटाने वाली जितनी बातें याद आ रही हैं लगता है कि सिलसिले वार लिख दें। हम लोग जिन दीनदयाल उपाध्याय नगर में रहते हैं, वहां पर दो घर छोड़कर एक परिवार रहता है, यह परिवार अनुसूचित जाति समुदाय से संबंध रखता है, लेकिन हमारे घर इनका आना-जाना एक परिवार की तरह है। हमारे घर में जब भी कोई कार्यक्रम होता है तो श्रीमती जी अपनी इस सहेली को ही हाथ बटाने के लिए याद करती हैं, और उनकी यह सहेली हमेशा खुशी-खुशी आती हैं। इसी के साथ मेरी पत्नी की एक और सहेली हैं जो कि ब्राम्हण हैं, वहां भी कई अवसरों पर हमारे घर के कार्यक्रमों में आती हैं। कुछ अवसरों पर ऐसा भी हुआ है कि जब कोई कार्यक्रम रहा है तो मेरी पत्नी के साथ उनकी ये दोनों सहेलियां भी किचन में रहीं है, श्रीमती जी की ब्राम्हण सहेली को यह बात अच्छी तरह से मालूम है कि उनकी दूसरी सहेली अनुसूचित जाति की हैं, पर उन्होंने कभी इस बात को लेकर आपति नहीं की है।
उस अनुसूचित जाति की महिला जो कि हमें जीजा जी बोलती हैं और हम भी उसे साली ही मानते हैं। उनके घर के कई कार्यक्रमों में हम लोग उनके गांव गए हैं, और वहां पर हमने बकायदा खाना भी खाया है।
हमारा ये सब बताने का मकसद यह है कि क्यों कर लोग भी छूआ-छूत को अपनाए हुए हैं। ऐसी परंपरा को तोडऩा ही बेहतर हैं। इंसान जात से नहीं अपने कर्मों से गंदा होता है, अगर आप ऊंची जाति के हैं और अपके कर्म गंदे हैं तो ऐसी ऊंची जाति का क्या फायदा। आज आप महानगरों और शहरों में देख लें आपके घर में काम करने वाली बाई की यदि आप जात पर जाने लगें तो आपको काम करने वाली कोई मिलेगी नहीं। उस समय क्यों ऐसे छोटी जाति के लोगों से काम करवाने को लोग तैयार हो जाते हैं, क्यों नहीं लोग खुद काम कर लेते हैं। 

3 टिप्पणियाँ:

tahseeldar शनि अप्रैल 10, 11:15:00 am 2010  

हम आपको ये बताना चाहते हैं कि आपके विचार पढ़ने के बाद से हमारा मन बहुत ही विचलित है और हम इस पर टिप्पणी करना चाहते हैं। लेकिन आज हमारी तबियत कुछ ठीक नहीं है फिर भी हम आपके लेख पर टिप्पणी करने की मंशा रखते हैं लेकिन तबियत हमारा साथ नहीं दे रही है। हम मन मसोसकर बैठे हैं कि किस तरह से आपके महान विचारों पर अपनी राय दें। दरअसल आपके लेख पढ़ने के बाद हम अपने आपको टिप्पणी करने से रोक ही नहीं पाते हैं लेकिन आज हमारी तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही है। फिर भी हम ये कहना चाहेंगे कि आप एक महान आदमी हैं जो काम महात्मा गांधी के बाद कोई नहीं कर सका वो आप कर रहे हैं। हम आपसे कहना चाहते हैं कि समानता की इस लौ को जलाये रखें, एक दिन आपको बड़ी कामयाबी मिलेगी। हम आपको बता दें कि हम लिखना तो बहुत कुछ चाहते हैं लेकिन हमारी तबियत ठीक नहीं है इसलिये हम ज़्यादा कुछ नहीं लिख पा रहे हैं। हालांकि हम लिखना बहुत कुछ चाहते हैं। हम आपसे एक बार फिर कहना चाहते हैं कि जो काम आपने शुरु किया है उसमें लगे रहे किसी से घबरायें नहीं। इस तरह के कामों में बाधा बहुत आती हैं लेकिन आप डरें नहीं। हम इस बारे में टिप्पणी बाद में करेंगे क्योंकि हमारी तबियत आज कुछ ठीक नहीं है।

Jyotsna शनि अप्रैल 10, 09:20:00 pm 2010  

ये तहसीलदार की भाषा तो राजकुमार ग्वालानी जैसी है!

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP