राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, मई 20, 2010

बड़ी मूछों वाला ब्लागर लापता

ब्लाग बिरादरी में बहुत ज्यादा नाम कमाने वाले एक बेहद लोकप्रिय, फेमस और अति प्रसिद्ध मूछों वाले ब्लागर के कल अचानक लापता होने की खबर मिली है। हम कल से उनको तलाश रहे हैं। कई ब्लागरों के फोन खटखटाने के बाद आज अचानक सुबह-सुबह एक ब्लागर का फोन आया कि इस ब्लागर को राजस्थान में घुसपैठ करते देखा गया है।

कल रात की बात है अचानक हमारा मोबाइल बजा और रिंगटोन बज उठी.. बेपनाह प्यार है आजा, तेरा इंतजार है आजा.. हमने जैसे ही मोबाइल उठाया उधर से जानी पहचानी आवाज आई..
साई राम-राम
हमने कहा राम-राम
उधर से पूछा गया- कहां हैं?
हमने कहा प्रेस में।
हमने पूछा आप कहां हैं, आवाज साफ नहीं आ रही है।
उधर से कहा गया- बैलगाड़ी में।
हमने कहा यार ये बैलगाड़ी में कहां जा रहे हैं।
उधर से कहा गया- भईया बैलगाड़ी में नहीं रेलगाड़ी में हैं और कहां जा रहे हैं अभी बता नहीं सकते हैं।
हमने पूछा- क्यों?
उधर से कहा गया- यार बहुत दिनों से मन उचट गया है सोचा कि चलो हम भी मिस्टर इंडिया बन जाते हैं और कुछ दिनों के लिए गायब हो जाते हैं, आप जैसे मित्रों में दम होगा तो हमें खोज ही लेंगे।
हमने कहा ठीक है मित्र हम तो खोज ही लेंगे। वैसे आप बताना चाहे तो कम से कम इतना बता सकते हैं कि किधर जाने वाली बैलगाड़ी.. अरे यार हमारा मतलब है रेलगाड़ी में बैठे हैं।
उधर से कहा गया कि ये बता दिया तो फिर तो खोज ही लेंगे न, और हमारे मूछों वाले भाई साहब ने फोन कट कर दिया।
हमने सोचा यार कहीं कोई मजाक तो नहीं कर रहे हैं अपने मूछों वाले भाई।
हमने उनका मोबााइल लगाया तो कवरेज एरिये से बाहर मिला।
ऐसे मेंं हमने संभावित स्थानों से बारे में सोचते हुए कई मित्रों को फोन  करते बता दिया कि एक बिगडै़ल मूछों वाले ब्लागर उनके इलाके में घुसपैठ कर सकते हैं जरा सावधान रहे और नजर आते ही हमें सूचना दें।
आज सुबह-सुबह हमारे एक मुखबिर ब्लागर का फोन आया कि भाई साहब आपके मूछों वाले ब्लागर को राजस्थान में घुसपैठ करते देखा गया है।
हमने मूछों वाले ब्लागर का फोन लगाया तो उन्होंने फोन उठाया और बताया कि आपको सही सूचना मिली है, हम फिलहाल राजस्थान में हैं। हमने पूछा आगे कहीं पाकिस्तान जाने का तो इरादा नहीं है न बार्डर पार करके। उधर से जवाब आया- यार क्या अपने देश में जगह की कमी है क्या जो ऐसे देश में जाने के बारे में सोचेंगे, जहां जाने के बारे में सोचना ही हमें पाप लगता है।
हमने पूछा तो फिर आखिर अगले कदम पर कहां सेंघ मारने वाले हैं। उधर से कहा गया कि आपके मुखबिर तो बता दी देंगे।
हमने कहां कि हमें तो सूचना मिल ही गई है कि आप अब दिल्ली पर चढ़ाई करने वाले हैं, क्या यह सच है।
उधर से कहा गया कि सच भी हो सकता है।
तो मित्रों हम दिल्ली के ब्लागर मित्रों को बता देना चाहते हैं कि हमारे मूछों वाले ब्लागर कभी भी दिल्ली धमक सकते हैं, आप लोग सचेत रहे और उनके दिखते ही हमें भी सूचना जरूर दें ताकि हम उनकी खोज में दुबले होने से बच जाए।
अगर अब तक हमारे ब्लागर मित्र इन मूछों वाले ब्लागर को नहीं पहचान पाए हैं तो हम उनकी पहचान भी बताए देते हैं।
हमारे ये ब्लागर मित्र हैं छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले के अभनपुर के ललित शर्मा जिनकी मूछों के बारे में कहा जाता है कि अगर मूछें हों तो ललित शर्मा जैसी वरना न हों। हम बता दें कि अगर अपने बिग-बी यानी अमिताभ बच्चन भी अगर शर्मा जी की मूछें देख लें तो वे यह कहना भूल जाएंगे कि मूछें हों को नथूलाल जैसी वरना न हों।
चो चलिए मित्रों आपकी सूचना का इंतजार रहेगा। देखें कि आपके बेपनाह प्यार का पैगाम हमारे बेपनाह प्यार है आजा .. की रिंग टोन वाले मोबाइल पर कब आता है।
मूछों वाले ब्लागर को देखते ही हमें इस नंबर 098267-11852 पर सूचना दें..

13 टिप्पणियाँ:

Arvind Mishra गुरु मई 20, 08:19:00 am 2010  

फिर गायब ..हे भगवान् !

Ratan Singh Shekhawat गुरु मई 20, 08:34:00 am 2010  

एक बड़ी- बड़ी मूंछो वाले ब्लोगर टाइप आदमी को राजस्थान के अलवर के पास देखा पाया गया है और विश्सनीय गुप्तचर जानकारी के आधार पर उस मूंछों वाले व्यक्ति का रविवार को दिल्ली आने का इरादा है
अत:अपने जासूसों का ध्यान दिल्ली रेलवे स्टेशन पर आने वाली आश्रम एक्सप्रेस पर केन्द्रित करें |

अविनाश वाचस्पति गुरु मई 20, 08:46:00 am 2010  

पहुंच गए हैं राजकुमार जी
मूंछों वाले राजा
मिलना है तो दिल्‍ली में आओ
दिल्‍ली 23 मई 2010 को।

खुशदीप सहगल गुरु मई 20, 08:58:00 am 2010  

दिल्ली में पोस्टर छपवा कर लगा देता हूं...खबरदार...शेर सिंह दिल्ली किसी भी वक्त पहुंचने वाले हैं...इस शख्स के रौबीले चेहरे पर मत जाइएगा...अंदर इसके मोम जैसे दिल वाला नेक इनसान छुपा है...आपको पहले ही आगाह किया जाता है कि एक बार इसके करीब आए तो फिर ज़िंदगी भर इसके स्नेह के जाल से निकल नहीं पाएंगे...

जय हिंद...

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" गुरु मई 20, 01:35:00 pm 2010  

जल्दी से गुमशुदगी की रपट लिखा दीजिए...सुना है कि आजकल बच्चों को उठा ले जाने वाला एक बहुत बडा गिरोह सक्रिय है :-)

'उदय' गुरु मई 20, 04:47:00 pm 2010  

...लगता है इनके पीछे भी गुप्तचर लगाने पडेंगे !!!

Rajkumar गुरु मई 20, 05:10:00 pm 2010  

ललित भाई मुझे बताकर ही निकले हैं, लेकिन उन्होंने यह भी कहा था कि किसी को बताना मत। वैसे दिल्ली जाऊंगा ऐसा बोल तो रहे थे लेकिन क्या है कि वे आगरा से होते हुए कब मुबंई पहुंच जाए कुछ कहा नहीं जा सकता।
याद आया अभी फोन लगाकर पूछता भी हूं कि भाई कहां हो।

बी एस पाबला गुरु मई 20, 07:23:00 pm 2010  

बच के रहना रे बाबा बच के रहना रे

बी एस पाबला

गिरीश बिल्लोरे शुक्र मई 21, 01:59:00 am 2010  

जिनकी मूंछ सवा नो बजाती है अलवर में डले पाये गए

गिरीश बिल्लोरे शुक्र मई 21, 02:01:00 am 2010  

बोल तो यही रहे थे सबको यही बताया उनने

Udan Tashtari शुक्र मई 21, 02:13:00 am 2010  

बिना बताये जाना ठीक नहीं इस जमाने में. :) लोगों को संभलने का मौका तो देना ही चाहिये..

अविनाश वाचस्पति शुक्र मई 21, 06:41:00 am 2010  

अलवर अ लवर

लवर वर

वर के पास इनका काम नहीं

जरूर लवर के पास होंगे।

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP