राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शुक्रवार, अक्तूबर 01, 2010

ये जाति बनाई किसने पापा..

कल दिन भर अध्योया को लेकर बातें होती रहीं। हर टीवी चैनल पर बस एक ही बात हिन्दु और मुसलमानों की। ऐसे में अचानक हमारी 12 साल की बिटिया स्वप्निल से एक सवाल दागा कि पापा ये जाति बनाई किसने। अब हम इसका क्या जवाब देते।
उनसे फिर एक और सवाल दागा कि हम सब तो इंसान हैं फिर ये हिन्दु और मुसलमान की बातें क्यों?
इसी के साथ उसने यह भी कहा कि अगर अध्योया में मंदिर और मस्जिद एक साथ बन जाए तो क्या गलत है? ये सब बातें अदालत का फैसला आने के ठीक एक घंटे पहले हो रही थी। इसके बात जब फैसला आया तो यही आया कि मंदिर-मस्जिद एक साथ रहेंगे।
इसमें कोई दो मत नहीं है कि हम सब इंसान के रूप में पैदा हुए हैं और जात-पात में बांटने का काम हम इंसान ही करते हैं।
स्वप्निल ने एक बात और यह भी कही कि मंदिर और मस्जिद बनाने को लेकर अगर विवाद है तो वहां स्कूल बना दिया जाए, स्कूल में तो हिन्दु, मुसलमान के साथ सभी धर्म के बच्चे पढऩे आते हैं। वास्तव में देखा जाए को बच्चों का दिमाग भी कितना चलता है। लेकिन इसका क्या किया जाए कि समाज में हिन्दु और मुसलमान की दीवार सत्ता में बैठे चंद लालची नेताओं ने कुछ ज्यादा ही बड़ी कर रखी है। अन्यथा अपने देश के हिन्दु और मुसलमान यह हमेशा दिखाते हैं कि उनमें कितना भाई-चारा है। कल के फैसले के बाद जिस तरह से अपना देश शांत रहा वह इस बात का सबूत है कि अध्योया के फैसले से आम जनता को ज्यादा सरोकार नहीं था। जनता खामोश थी, लेकिन नेता बिनावजह शांति की अपील किए जा रहे थे।

4 टिप्पणियाँ:

neha शुक्र अक्तू॰ 01, 09:34:00 am 2010  

सौ टके का सवाल है- कोई तो जवाब दो बच्ची को

pranav शुक्र अक्तू॰ 01, 09:36:00 am 2010  

जवाब नेताऔ से पूछा जाए

संगीता पुरी शुक्र अक्तू॰ 01, 11:17:00 am 2010  

12 वर्ष की बच्‍ची जितना समझ सकती है .. उतना बडे बडे नेता नहीं समझते .. या समझना नहीं चाहते !!

ali शुक्र अक्तू॰ 01, 09:24:00 pm 2010  

जब आप उसे बता दें तो मुझे भी बताइयेगा :)

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP