राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शुक्रवार, अगस्त 20, 2010

दुश्मन दोस्तों ने किया मजबूर माडरेशन लगाने

हम अपने ब्लाग राजतंत्र में माडरेशन लगाने के खिलाफ थे, लेकिन हमारे दुश्मन दोस्तों ने ही हमें मजबूर कर दिया है कि हम माडरेशन लगा दें। हम बता दे कि हमारे ही बीच के कुछ मित्रों ने फर्जी आईडी बनाकर लगातार हमें परेशान करने का काम किया है। हमने लगातार इन बातों को नजरअंदाज करने का काम किया, लेकिन इसके बाद भी ऐसे दुश्मन दोस्त बाज नहीं आ रहे हैं। हम जानते हैं कि ऐसी हरकतें कौन कर रहे हैं। अगर  ऐसी हरकतें करके वे लोग खुश हो रहे हैं और उनको लगता है कि हम विचलित होकर ब्लाग जगत से किनारा कर लेंगे तो यह उनकी बहुत बड़ी गलतफहमी है।
हम जानते हैं कि हमने जब से ब्लाग जगत को गुटबाजी से उबारने के इरादे से ब्लाग चौपाल का आगाज किया है, गुटबाजी करने वाले हमारे दुश्मन दोस्त बहुत ज्यादा खफा हैं। वे खफा होते हैं खफा रहे हमारी बला से। हमें जब किसी गुटबाजी से कोई मतलब नहीं है तो हम क्यों कर ऐसे लफड़े में पड़े। हम तो ब्लाग चौपाल में जो भी ब्लाग नजर आते हैं उनको शामिल करने का प्रयास करते हैं। एक प्रयास यह भी रहता है कि एक ही ब्लाग को लगातार शामिल न करें। नए-नए ब्लागों तक जाने का प्रयास रहता है। इसमें हम ज्यादा सफल तो नहीं पा रहे हैं क्योंकि हमारे पास समय की कमी है, लेकिन इसके बाद भी हम कोशिश करते हैं। एक बात और यह कि हम टिप्पणियों के पीछे भागते नहीं है। हमने पहले सोचा था कि हम टिप्पणियों का रास्ता ही बंदज कर देंते हैं, लेकिन फिर लगा कि शायद यह ठीक नहीं होगा, क्योंकि चंद मतलबी लोगों की वजह से हर किसी को अपने विचार रखने से रोकना ठीक बात नहीं है। ऐसे में हमने फिलहाल अपने ब्लाग में माडरेशन लगाने का फैसला किया है। अगर जरूरत हुई तो हम टिप्पणियों का रास्ता भी बंद कर सकते हैं। हम ब्लाग जगत में सिर्फ और सिर्फ कुछ अच्छा करने आए हैं न की गुटबाजी करने और गुटबाजी फैलाने के लिए आए हैं।

3 टिप्पणियाँ:

Raviratlami शुक्र अग॰ 20, 08:55:00 am 2010  

मैं तो शुरू से ही कहता आ रहा हूँ कि हर सेंसिबल ब्लॉगर को मॉडरेशन लगाना ही चाहिए.
डॉ. अमर कुमार जी, सुन रहे हैं?

अन्तर सोहिल शुक्र अग॰ 20, 11:30:00 am 2010  

सभी अग्रज और माननीय बडे कह रहे हैं, मॉडरेशन लगाने के लिये। लेकिन मैनें भी नहीं लगाया है।
खैर आपको तो मजबूर कर ही दिया दोस्तों-दुश्मनों ने।
आपकी यह बात सही है कि
"चंद मतलबी लोगों की वजह से हर किसी को अपने विचार रखने से रोकना ठीक बात नहीं है।"
ऐसे लोग चोरी ऊपर सीनाजोरी भी करते हैं। ये आपने भी देख लिया होगा जी, क्योंकि आपभी पहचानते हैं, उन्हें।

प्रणाम स्वीकार करें

राजकुमार ग्वालानी शुक्र अग॰ 20, 03:39:00 pm 2010  

एक फर्जी आईडी वाले महानुभव हमसे पूछते हैं कि हम ऐसा कौन सा बड़ा काम कर रहे हैं जिससे हमें रोका जा रहा है। हम बता दें कि हम कोई बड़ा काम नहीं कर रहे हैं बड़ा काम तो फर्जी आईडी बनाकर लोगों को परेशान करने वाले कर रहे हैं, क्योंकि इनके पास काम जो नहीं है।

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP