राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

रविवार, अगस्त 29, 2010

गम भूलाने जिगर में होना चाहिए दम


सब जानते हैं पीने में है खराबी
फिर भी न जाने कैसे बन जाते हैं शराबी
क्या सच में गम भूला सकती है शराब
कोई तो बताएं हमें भी जनाब
हम कहते हैं शराब में नहीं इतना दम
जो भूला सके किसी के भी गम
गम भूलाने जिगर में होना चाहिए दम
न जाने क्यों लोग पीते हैं इसके लिए रम
जिनके मन में होता है वहम
उन पर कभी नहीं करता भगवान रहम
कुछ तो करो पीनो वालों शरम
मत फैलाओं लोगों में झूठे भरम 

एक ताजा तरीन रचना पेश है...

2 टिप्पणियाँ:

ali रवि अग॰ 29, 10:34:00 am 2010  

आप सही कहते हैं जनाब ! शराब से होते हैं घर खराब !

DEEPAK BABA मंगल अग॰ 31, 06:57:00 pm 2010  

हर चीज़ का अपना मजा होता है ...........
और हर मज़े कि अपनी सजा होती है......

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP