राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शनिवार, जनवरी 02, 2010

गुजरे साल में मिले कई ब्लागर मित्र



हमारे लिए गुजारा साल कई मायने में महत्वपूर्ण रहा। एक तो हमने इसी साल ब्लाग जगत में कदम रखा और इस पहले ही साल में हमारी मुलाकात कई ब्लागर मित्रों से हुई। जिन मित्रों से मुलाकात हुई उनमें जहां कई दिग्गज ब्लागर शामिल हैं, वहीं फोन पर ब्लाग बिरादरी के बिग-बी समीरलाल जी से भी चर्चा हुई। फोन पर और भी कुछ मित्रों से रूबरू होने का मौका मिला।

हमने पिछले साल फरवरी में जब ब्लाग बिरादरी में कदम रखा था तब हमें यह कताई गुमान नहीं था कि हमें इस ब्लाग संसार में इतना प्यार और अपनापन मिलेगा। लेकिन हमें यहां बहुत ज्यादा प्यार मिला। अब जहां तक ब्लागर मित्रों से परिचय का सवाल है तो हम अपने शहर के अनिल पुसदकर के साथ संजीत त्रिपाठी को पहले से जानते थे। वैसे संजीत के बारे में हमें तब मालूम हुआ था कि वे भी ब्लागर हैं जब उन्होंने हमारे खेलगढ़ में एक टिप्पणी की थी। इसके बाद उनसे प्रेस क्लब में मुलाकात हुई थी। अब जहां तक अनिल जी का सवाल है तो हम लोग 20 साल पहले दैनिक अमृत संदेश में साथ में काम करते थे। अपने शहर के बाहर के ब्लागरों में सबसे पहले हमारा परिचय भिलाई के बीएस पाबला जी से हुआ था। हमने उनसे मिलने की इच्छा जाहिर की थी और वे जब रायपुर आए तो उनसे प्रेस क्लब में मुलाकात हुई। यहां पर संजीत त्रिपाठी और अनिल पुसदकर जी भी आए थे।

इसके बाद रायपुर में ब्लाग जगत के एक दिग्गज नामी ब्लागर रवि रतलामी जी से तब मिलने का मौका मिला, जब उनका एक कार्यक्रम में रायपुर आना हुआ। यहां उनके अलावा पहली बार दुर्ग के ब्लागर संजीव तिवारी से भी मिलने का मौका मिला। रायपुर में ब्लागरों की एक महफिल तब भी जमी तब अलबेला खत्री जी का रायपुर आना हुआ। इसी दिन हमें पहली बार शरद कोकास के साथ अभनपुर के भाई ललित शर्मा से भी मिलने का मौका मिला।

साल के अंत में भिलाई में एक चिंतन बैठक रखी गई जिसमें कई महत्वपूर्ण फैसले हम लोगों ने लिए तो इस बैठक में पहली बार हमारा परिचय भिलाई के दो और ब्लागरों बालकृष्ण अय्यर के साथ सूर्यकांत गुप्ता से हुआ।

इधर जब अचानक ब्लाग जगत में अपने दिल्ली के ब्लागर मित्र अजय कुमार झा जी के ब्लाग छोडऩे की गलतफहमी पैदा हुई तो पहली बार हमने उनसे फोन पर चर्चा की। इसके बाद उनसे चर्चा का मौका नए साल में पहले ही दिन मिला। हमने पिछले साल जहां जबलपुपर के ब्लागर मित्र महेन्द्र मिश्र से भी फोन पर चर्चा की, वहीं हमारे लिए वह दिन सुखद था जब हमारे पास ब्लागर बिरादरी के बिग-बी माने जाने वाले समीर लाल जी का फोन आया था। वैसे फोन पर हमारी बीएस पाबला और ललित शर्मा जी से बातें होती रहती हैं। अब जहां तक अनिल जी का सवाल है तो उनसे यदा-कदा प्रेस क्लब में मुलाकात हो ही जाती है। ब्लाग बिरादरी में हमें एक साल से भी कम के ब्लागर जीवन में बहुत प्यार मिला है।

एक तरफ जहां कई ब्लागरों से मुलाकात का मौका मिला है, वहीं कुछ से फोन पर बातें हुई हैं। लेकिन जिनसे मुलाकात भी नहीं हुई और फोन पर चर्चा नहीं हो सकी, लेकिन वे हमें अपनी टिप्पणियों के माध्यम से बहुत करीब लगे हैं। ऐसे लोगों में काफी नाम है जिनकी टिप्पणियों ने हमारा हौसला हमेशा लिखने के लिए बढ़ाया है। हम ऐसे लोगों में कुछ लोगों के नामों का उल्लेख करके किसी को नाराज नहीं करता चाहते हैं हो सकता है भूलवश किसी का नाम छूट गया तो यह गलत होगा। ऐसे में हम अपने उन सभी ब्लागर मित्रों के तहे दिल से आभारी हैं जो कदम-कदम पर हमें हमेशा साथ लगते हैं।

हमारी इच्छा ऐसे सभी ब्लागर मित्रों से मिलने की होती है, समय और किस्मत ने साथ दिया तो सभी से एक न एक दिन जरूर मुलाकात होगी। वैसे अपने अजय झा ने कहा है कि वे संभवत: इस साल छत्तीसगढ़ आएंगे। अपने समीर लाल जी ने भी छत्तीसगढ़ आने का वादा किया है। और भी जो ब्लागर मित्र हमारे राज्य में आने के इच्छुक है उन सभी का छत्तीसगढ़ में हमारा ब्लागर परिवार स्वागत करने बेताब है। नए साल में हम उम्मीद करते हैं कि ज्यादा से ज्यादा ब्लागर मित्रों से रूबरू होने का मौका मिलेगा।

7 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा शनि जन॰ 02, 09:27:00 am 2010  

स्वागत है श्रीमान जी, सभी मित्रों का।

ताऊ रामपुरिया शनि जन॰ 02, 10:06:00 am 2010  

निमंत्रण देने के लिये धन्यवाद, हम भी आरहे हैं.

रामराम.

Mishra Pankaj शनि जन॰ 02, 10:46:00 am 2010  

फोन पर थोड़ी देर मै भी था आप सबके साथ !!! जल्दी ही आमने सामने मुलाकात होगी आपके घर :)

Udan Tashtari शनि जन॰ 02, 07:22:00 pm 2010  

जल्द पहुँचने का प्रयास है. :)

मनोज कुमार शनि जन॰ 02, 08:51:00 pm 2010  

बेहतरीन। लाजवाब। आपको नए साल की मुबारकबाद।

अजय कुमार झा शनि जन॰ 02, 10:30:00 pm 2010  

और हमें नहीं मिला कोई मित्र , ..........जो मिला या तो अग्रज या अनुज , ....बेशक सहोदर न हुआ तो क्या , जाने किस जन्म का रिश्ता था जो अब जाके जुडा है । राज भाई ...हम तो इस बरस धरती की रानी को चूमेंगे ....जी हां अपना वादा तो हमें याद है और हम उसे पूरा भी करेंगे जरूर

राजीव तनेजा रवि जन॰ 03, 08:50:00 am 2010  

ब्लॉगिंग चीज़ ही ऐसी है मित्र...

इसने समान रुचियों वाले कई बेहतरीन मित्र दिए हैँ मुझे भी

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP