राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, मई 28, 2009

चांद पर भी उगेंगे बाल ...

अब नहीं रहेगी दुनिया में गंजों की कोई बस्ती
कोई नहीं कर पाएगा उनको चिढ़ाने की मस्ती

एक चांद आसमां पर है और एक जमीं पर... वैसे यह बात अक्सर कोई प्रेमी अपनी प्रेमिका के लिए कहता है। चांद की तुलना एक तो प्रेमिका से की जाती है और दूसरी उन बेचारे बिना बालों वाले गंजों से जिनके सिर पर न जाने क्यों बालों की फसल होती ही नहीं है। अब ऐसे गंजों के लिए एक खुशखबरी है कि वे भी किसी प्रेमी की प्रेमिका की तरह ही सुंदर बनने वाले हैं। वैज्ञानिकों ने अब इंसानी चांद पर बाल उगाने की कला का पता लगा लिया है। वैज्ञानिकों ने तो किसी को चांद होने से पहले ही रोकने की भी जानकारी एकत्र कर ली है। तो अब गंजे भाईयों-बहनों हो जाइए खुश और मनाइए जश्न क्योंकि अब आपसे कोई यह कहेगा कि कंघी लेंगे क्या।


पूरी दुनिया में दुखी प्राणियों के बारे में शोध किया जाए तो एक बात यह भी सामने आएगी कि जिनके सर पर बाल नहीं होते हैं वे भी बहुत ज्यादा दुखी होते हैं। अब यह बात अलग है कि कई लोगों को बिना बालों के जीना अच्छी तरह से आता है और वे यह मानकर चलते हैं कि उनकी किस्मत में जब बालों का सुख लिखा ही नहीं है तो वे क्या करें। फिल्मों में पहले तो ज्यादातर खलनायक गंजे ही दिखाए जाते थे, ऐसे में बेचारे गंजे परेशान रहते थे कि लोग उनको भी खलनायक ही समझते हैं। लेकिन जब से फिल्मों में हीरो को भी गंजा दिखाने का प्रचलन चला है तो गंजे इससे थोड़े खुश हुए हैं। गंजापन एक तरह से बीमारी ही है। इस बीमारी का पता लगाने का प्रयास हर देश में लंबे समय से किया जाता रहा है, लेकिन अब तक किसी देश को इसमें सफलता नहीं मिली थी। गंजों का इलाज एक विग ही थी। लेकिन उससे पता चल जाता था कि विग पहनी गई है। लेकिन अब किसी भी गंजे को विग पहनने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि अंतत: टोक्यों के वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगा ही लिया है कि गंजेपन का राज क्या है। इस राज का खुलासा करते हुए बताया गया है कि इसके लिए भी एक जींस जिम्मेदार है। इस जींस की पहचान एसओएक्स 21 के रूप में की गई है। इस जींस के कारण ही लोग गंजे हो जाते हैं। जिनमें यह जींस रहता है उनका गंजा होना लाजिमी है।


वैज्ञानिकों को जब इस जींस का पता चला तो उन्होंने इसकी हकीकत जानने के लिए एक और खोज यह की कि उन्होंने यह भी पता लगाया कि ऐसे ही जींस चूहों में भी होते हैं। अब उन

टोक्यों के वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगा ही लिया है कि गंजेपन का राज क्या है। इस राज का खुलासा करते हुए बताया गया है कि इसके लिए भी एक जींस जिम्मेदार है। इस जींस की पहचान एसओएक्स 21 के रूप में की गई है। इस जींस के कारण ही लोग गंजे हो जाते हैं। जिनमें यह जींस रहता है उनका गंजा होना लाजिमी है।

के
सामने आसानी हो गई कि प्रयोग किया जा सकता है। सबसे पहले इस जींस का प्रयोग चूहों पर किया। गया। जिन चू्हों में ये जींस पाए जाते हैं उनका पता लगाकर उन पर प्रयोग कुछ तरह से किया गया कि वैज्ञानिकों ने इस जींस के प्रभाव को समाप्त करने पर काम प्रारंभ किया और उनको इसमें सफलता भी मिल गई है। वैज्ञानिकों ने चूहों में इस जींस की सक्रियता पर लगाम लगाई और इसमें वे सफल भी रहे हैं। जन्म के 15 दिनों के अंदर ही चूहों के बाल गिरने लगे और चूहे एक सप्ताह में ही गंजे हो गए। ऐसे में वैज्ञानिकों ने चूहों पर जन्म के बाद ही अपना प्रयोग किया तो बालों का गिरना रूक गया।

शोध करने वाले वैज्ञानिकों की मानें तो बालों के बढऩे का समय काफी लंबा होता है। बाल दो या तीन साल तक बढ़ते हैं फिर दो तीन माह तक बाल बढ़ते नहीं है। वैज्ञानिकों का मानना है कि एसओएक्स 21 इस चक्र को संचलित करता है। ऐसा माना जाता है कि पुराने बाल गिरने पर जल्द ही नए बाल उनका स्थान ले लेते हैं। लेकिन चूहों पर किए गए परीक्षण में यह बात सामने आई कि बाल जल्दी गिर गए और चूहों के गंजे रहने की अवधि बढ़ गई। वैज्ञानिकों का मानना है कि न सिर्फ गंजों के सिर पर बाल उगाए जा सकते हैं बल्कि ऐसे लोगों का भी पता लगाया जा सकता है जो गंजे होने वाले हैं। ऐसे लोगों की पहले से ही पहचान करके उनको गंजा होने से भी बचाया जा सकेगा। है न खुश होने वाली बात..तो हो जाइए खुश..।

19 टिप्पणियाँ:

chintu गुरु मई 28, 09:00:00 am 2009  

रोचक और अच्छी जानकारी है, आभार

ajay kumar jha गुरु मई 28, 09:07:00 am 2009  

are ganjon aur taklon ke liye to ye ek anivaarya post hai bhai.....jadlee hee baal kranti kee shuruaat honee chaahiye......

रंजन गुरु मई 28, 10:19:00 am 2009  

बुक मार्क कर देते है, आडे वक्त काम आयेगी..

guru गुरु मई 28, 10:31:00 am 2009  

गंजों की तो निकल पड़ीं गुरु

इरशाद अली गुरु मई 28, 10:32:00 am 2009  

acchi jaankari hae..halaki abhi hum ganjae nahi huae hae...

बेनामी,  गुरु मई 28, 10:35:00 am 2009  

गंजा जगत का आपको सलाम

rohan गुरु मई 28, 12:43:00 pm 2009  

कंधी बेचने वालों की भी मोज हो जायेगी

sam गुरु मई 28, 12:53:00 pm 2009  

गंजे मित्रों के लिए सच में यह अच्छी खबर है

बेनामी,  गुरु मई 28, 01:06:00 pm 2009  

जिनके पति गंजे हैं उन पत्नियों के लिए भी यह सुखद खबर है। सबसे ज्यादा खुशी उनको भी होगी, कि चलों अब उनको कोई चांद की बीबी नहीं कहेगा

ranju गुरु मई 28, 01:25:00 pm 2009  

वैज्ञानिकों से आग्रह है कि जल्द ही अब इंसानों पर भी प्रयोग करें ताकि गंजों के खेतों में भी बालों की फसल लहलहा सके।

saurabh गुरु मई 28, 04:43:00 pm 2009  

गंजे जब हो जाएँगे सुंदर तो उनको सुंदर जीवन साथी मिलने में भी आसानी होगी।

pranav गुरु मई 28, 05:30:00 pm 2009  

बड़ी अच्छी खबर बताई मित्र आपने, हमारे कुछ गंजे मित्र तो इस खबर को जानकार खुश हो गए हैं और सोचने लगे हैं कि कब वह दिन आएगा जब उनकी बंजर जमीन पर भी बालों की फसल लहरा सकेगी। खबर बताने के लिए धन्यवाद

लोकेश Lokesh गुरु मई 28, 07:23:00 pm 2009  

लगता है अब हमें भी कोई ना कोई देखेगा :-)

Anil Pusadkar गुरु मई 28, 11:34:00 pm 2009  

जंहा तक़ मै समझता हूं तुम तो टकलू नही हो फ़िर ये चांद की फ़िक्र क्यों?

बेनामी,  शुक्र मई 29, 12:33:00 am 2009  

कहीं यह शोध विदेशी सामान बेचने की साजिश तो नहीं है?

sonu शुक्र मई 29, 12:46:00 am 2009  

अब हम भी बाल झडऩे की फिक्र छोड़ दें ऐसा लगता है। अगर इस शोध में दम है तो जरूर यह दुनिया का सबसे अजब शोध हो सकता है।

anu शुक्र मई 29, 12:58:00 am 2009  

ऐसी ही नई जानकारियों से अवगत कराते रहे

शरद कोकास शुक्र मई 29, 07:00:00 am 2009  

फिर हम कैसे कह सकेंगे..एक चान्द आसमा पे है एक मेरे पास है

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP