राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, मई 07, 2009

ताबीज से भागा भूत

कल शाम की बात है हम अपने कजन की दुकान पर बैठे थे तभी एक बंदा आया और उन्होंने हमारे कजन को सूचना दी कि रिश्तेदारी में एक मौत हो गई है और उनका अंतिम संस्कार कल है जिसमें उनके परिवार के किसी को जाना है। उनके जाने के बाद हमारा कजन यह सोचकर परेशान हो रहा था कि यार कहीं उसको ही न जाना पड़े। उसने बताया कि एक बड़ा भाई बाहर गया है। ऐसे में हमने उनसे कहा कि सबसे बड़े भईया को पहले खबर कर दो फिर हमें बताओ कि आखिर तुम किसी के अंतिम संस्कार में क्यों नहीं जाना चाहते हो। पहले उसने बड़े भाई साहब को खबर की, फिर उसने बताया कि उसके गले में एक ताबीज है जिसको पहनने के बाद वह कभी शमशान घाट नहीं गया। इस ताबीज के बारे में हमने जानना चाहा तो उसने बताया कि यह एक ऐसा ताबीज है जिसको पहनने के बाद उसको भूत से मुक्ति मिली है। इसके बाद उसने वह पूरा किस्सा सुनाया।



हमारे कजन जब वह भाटापारा में रहता था तब एक दिन रात को वह अपने घर की छत पर गया तो उनसे वहां पर टीवी के एंटिना के पास एक परछाई को खड़े देखा। उसके बाद से उसकी हालत खराब होने लगी। उसने बताया कि जब वह सोए रहता था तो लगता था कि कोई उसके ऊपर सवार है और जब उसकी आंखे खुलती थी तो लगता था कि वह मीलों दौड़कर आया है और पसीने-पसीने हो जाता था। यह सिलसिला काफी समय तक चला।



उसने बताया कि एक दिन वह अपने मित्र के घर पर बैठा था तो वहां एक पंडित आए थे। वे उसको बार-बार देख रहे थे और अंत में उन्होंने उससे पूछा कि क्या तुमको कोई परेशानी है। कजन ने पहले तो उनकी बात को टालने की कोशिश की लेकिन जब उन पंडित जी ने उससे साफ-साफ कहा कि उनके ऊपर किसी का साया है जो उसको लगातार परेशान कर रहा है, तब कजन ने सारी बातें उनको बताई। उसकी बात सुनने के बाद उन पंडित जी ने उसको अपने घर बुलाया और बिना कुछ लिए एक ताबीज दिया जिसको उसने गले में पहना। इस ताबीज को देते समय पंडित जी ने उसको एक ही हिदायत दी थी कि कभी शमशान घाट मत जाना, वह दिन है और आज का दिन है कजन फिर कभी किसी के अंतिम संस्कार में शमशान घाट नहीं गया। उसने बताया कि ताबीज पहनने के बाद अब कई साल हो गए है उसको वह भूत परेशान नहीं करता है। ताबीज पहनते ही उस भूत को भागना पड़ा।

यह एक सच्चाई है जो हमें कजन ने बताई है, हो सकता है इस बात पर किसी को यकीन हो और किसी को न हो। भले आज विज्ञान कितना भी आगे बढ़ गया है पर इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता है कि आज जहां एक तरफ दैवीय शक्ति है, वहीं भूत-प्रेत जैसी शैतानी शक्तियों का अस्तित्व भी है जिसको सब मानते हैं। शैतानी शक्तियों पर भारत में ही नहीं विदेशों में भी फिल्में बनती रही हैं और बनती रहेंगी। इन फिल्मों में भी तो कहीं न कहीं सच्चाई ही रहती है। ऐसे किस्से अखबारों में भी छपते रहते हैं। अब यह बात अलग है कि भूत भगाने के नाम पर कई तांत्रिक ठगी का धंधा भी करते हैं। लेकिन सच्चे साधु-संत ऐसी आत्माओं से लोगों को मुक्ति दिलाने का काम भी करते हैं। ऐसे ही एक पंडित ने हमारे कजन को भी भूत से मुक्ति दिलाई थी।

8 टिप्पणियाँ:

ajay गुरु मई 07, 08:54:00 am 2009  

शैतानी शक्तियों का अस्तित्व होता है ऐसा हमने भी सुना है, लेकिन कभी ऐसा कोई वाक्या हमें देखने को नहीं मिला है। भूतों के किस्से जरूर कई सुनने को मिले हैं। आपकी बातों में सच्चाई हो सकती है।

बेनामी,  गुरु मई 07, 09:05:00 am 2009  

क्या वाकई भूत होते हैं, अगर होते हैं और किसी ने उनको देखा है तो जरा हमें भी बताएं।

guru गुरु मई 07, 09:26:00 am 2009  

ये आप कहां भूत के चक्कर में फंस गए गुरु

anu गुरु मई 07, 10:43:00 am 2009  

भूतों की गाथाएं तो हमने भी बहुत भी सुनीं हैं। लेकिन ताबीज से भूत के भागने की बात पहली बार सुनने को मिल रही है। अगर किसी ने ऐसा काम किया है तो इसके लिए वह बधाई का पात्र है। हमारी भी बधाई उन तक पहुंचा दें।

बेनामी,  गुरु मई 07, 10:49:00 am 2009  

क्या सचमुच ऐसा संभव है कि एक ताबीज से भूत भाग जाते हैं। ऐसे रामबाण के बारे में आपने जानकारी देकर एक अच्छा काम किया है।

बेनामी,  गुरु मई 07, 01:31:00 pm 2009  

आज के वैज्ञानिक युग में जब पढ़े-लिखे लोग भी अनपढ़ों की तरह भूत-प्रेत की बातों पर विश्वास करते हैं तो हम ऐसे लोगों पर तरस आता है। क्या कोई इस बात का दावा कर सकता है कि उसने कभी भूत को देखा है। अगर किसी ने देखा है तो क्या इसके प्रमाण है। अगर नहीं है तो फिर बिना सिर-पैर की बातें करने का मतलब क्या है? ऐसी बातों से ही लोगों में अंधविश्वास फैलता है।

राजकुमार ग्वालानी गुरु मई 07, 01:43:00 pm 2009  

जवाब बेनामी
शायद आपको मालूम नहीं है कि कई बार भूतों को कैमरों में भी कैद किया गया है और इसके कई बार प्रमाण भी सामने आए हैं। अखबारों में भी ऐसी खबर छपी हैं। नेट पर भूतों के फोटो भी हंै। इन सारे प्रमाणों के बाद भूतों के अस्तित्व को कैसे नकारा जा सकता है। शैतानी शक्ति इस दुनिया में है इसको वैज्ञानिक युग में मानने के कोई पढ़ा-लिखा छोटा या फिर अनपढ़ नहीं हो जाता है। आपका ज्ञान अधूरा है आप जरा अपना ज्ञान बढ़ाने का काम करें।

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र गुरु मई 07, 10:03:00 pm 2009  

ये गंडा ताबीज महज अंधविश्वास है ? आत्मविश्वास ही सब कुछ अच्छा करा सकता है .

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP