राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

बुधवार, सितंबर 30, 2009

बॉर्डर पर बेटियों ने बदली बयार

नारी शक्ति के रूप नवरात्रि को अभी समाप्त हुए तीन दिन ही हुए हैं कि बॉर्डर से खबर आई है कि भारत की बेटियों ने बॉर्डर की बयार ही बदल दी है। एक तो बार्डर पर बेटियों की तैनाती ही मिसाल थी, अब इन्हीं बेटियों के कारण बॉर्डर के किनारे रहने वाली मांओं का जीवन बदल गया है। इन मांओं को अब अपने खेतों में जाने की आजादी मिल गई है, नहीं तो पहले इनको अपने खेतों को दूर से उसी तरह से निहारना पड़ता था जिस तरह से हम लोग चांद और सूरज को निहारने के लिए मजबूर रहते हैं। पर अब बॉर्डर पर बेटियों ने सारी बयार बदल दी है। यह पाकिस्तान के उन निकम्मों के लिए करारा जवाब भी है जो बॉर्डर पर तैनात बेटियों को वैश्या कहने से बाज नहीं आए थे। अब जिसकी जैसी मानसिकता होगी, वह तो वैसा ही सोचेगा। हो सकता है पाकिस्तान में बेटियों को यही समझा जाता हो।

आज सुबह उठे तो दैनिक भास्कर में एक अच्छी खबर पर नजरें पड़ीं। यह खबर थी बॉर्डर में तैनात महिला बटालियन की। भास्कर के लिए यह रिपोर्ट बनाने का काम भी हिन्द की एक बेटी कलमकार शायदा जी ने किया है। उनकी इस रिपोर्ट के लिए उनका भी नमन करते हैं। इस बटालियन के बारे में इस खबर में काफी विस्तार से जानकारी दी गई है कि कैसे इस महिला बटालियन की सदस्यों ने 36 हफ्ते की ट्रेनिंग पूरी की। यही नहीं इस खबर में बताया गया है कि इस बटालियन में उस पंजाब की कुडिय़ां हैं जिस पंजाब में एक समय लड़कियों को भ्रूण में मार दिया जाता था। अब उसी पंजाब ने उस कलंक को इस मिसाल से धोने का काम कर दिया है। बटालियन की एक सदस्य बठिंडा की सुखमनजीत कौर से चर्चा में बताया गया है कि उनको बॉर्डर पर तैनात होने की कितनी खुशी है। बॉर्डर की निगरानी करने के बाद भी किसी भी महिला सैनिक के चेहरे पर कहीं थकान नजर नहीं आती है। इस बटालियन की सदस्यों को उस समय बहुत अच्छा लगता है कि जब बॉर्डर के आस-पास के गांवों की महिलाएं उनकी सुरक्षा में अपने खेतों में काम करती हैं, और उनको दुवाएं देते हुए बताती हैं कि इसके पहले उनको कभी खेतों में जाने का मौका ही नहीं मिलता था। बॉर्डर के पास के खेतों में कभी भी महिलाओं को जाने की इजाजत नहीं थी, वहां केवल पुरुष ही जाते थे, पर जब से बॉर्डर पर महिला बटालियन आई हैं, तब से बॉर्डर की बयार बदली और महिलाओं को खेतों में जाने का मौका मिलने लगा है।

गांवों की महिलाएं अब अपने खेतों में जाकर अपनी मिट्टी को छुकर देखने के बाद कैसे रोमांचित हैं यह बताने की जरूरत नहीं है। हर गांव की महिलाओं को अपने हिन्द की इन बेटियों पर नाज है। ये वो बेटियां हैं जो किसी भी मायने में बेटों से कम नहीं हैं। ट्रेनिंग में महिला बटालियन की सदस्यों ने वह सब किया जो पुरुष बटालियन के सदस्य करते हैं। 40 किलो मीटर तक दौडऩे से लेकर अपने घायल साथी को हथियारों के साथ कंघे पर उठाकर भागने का काम भी किया। बटालियन की सभी 450 सदस्य कमांडो ट्रेनिंग से बेहद रोमांचित हैं और अपनी भारत मां की रक्षा का जिम्मा पाकर गर्व महसूस कर रही हैं। अभी इस बटालियन की सदस्यों को बॉर्डर की निगरानी करके शाम को बीएसएफ के कैम्प में लौटना पड़ता है, जब इनके रहने की व्यवस्था हो जाएगी तो ये सभी रात में भी वहीं रहेंगी।

बॉर्डर की बयार बदलने की इस खबर से पाक के उन निकम्मों को सोचना चाहिए जिन्होंने हिन्द की इन बेटियों की तैनाती की खबर को यह कहा था कि भारत ने बॉर्डर में वैश्याओं को तैनात किया है। अब पाक जैसे घटिया मानसिकता वाले देश से अच्छा सोचने की उम्मीद भी कैसे की जा सकती है। हमें तो लगता है कि पाक में पाकी बेटियों को यही समझते हैं, तभी तो उन्होंने हिन्द की बेटियों के बारे में ऐसा सोचा। अरे हमारे देश में तो वैश्याओं को भी सम्मान की नजर से देखा जाता है, क्योंकि हम लोग जानते हैं कि अगर कोई अपना जिस्म बेचकर अपना पेट भर रहा है तो यह उसकी मजबूरी होगी। अब पाक में तो कोई मजबूर है नहीं, वहां सब मगरूर हैं और मगरूरों से क्या उम्मीद की जा सकती है। जब इनका मगरूरपन टूटेगा तो फिर पूरा विश्व भी भागने के लिए कम पड़ जाएगा। एक दिन वह जरूर आएगा जब पाक को हमारे हिन्द की यही बेटियां बताएगीं कि उनमें कितना दम है, तब देखेंगे कि कैसे पाक के सैनिक इनका सामना करते हैं। भारत वह देश है जिसने झांसी की रानी को जना है और जिसने दुश्मनों का बताया था कि हिन्द की बेटियों में कितना दम है। आज भी भारतीय नारियों में झांसी की रानी बसी हैं, बस वक्त आने दें ये बता देंगी कि इनमें कितना दम है।

10 टिप्पणियाँ:

kavaljit बुध सित॰ 30, 08:58:00 am 2009  

अब देश की हर मां चाहेगी कि उसकी लाडली भी अपनी मातृभूमि की रक्षा करने का काम करे।

guru बुध सित॰ 30, 09:06:00 am 2009  

हिन्द की बेटियों को सलाम करते हैं गुरु

वाणी गीत बुध सित॰ 30, 09:44:00 am 2009  

रणक्षेत्र में उतरी हैं बेटियाँ भी ...
गदगद है हर मां...
बहुत शुभकामनायें ....!!

बेनामी,  बुध सित॰ 30, 10:10:00 am 2009  

पाक जैसी घटिया सोच तो और किसी की हो भी नहीं सकती है, ऐसी घटिया लोगों की बातों का भी जिक्र करना यानी अपना दिन और समय खराब करना है।

Ram बुध सित॰ 30, 10:58:00 am 2009  

Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

Click here for Install Add-Hindi widget

जी.के. अवधिया बुध सित॰ 30, 11:41:00 am 2009  

यह सिर्फ एक समाचार नहीं बल्कि हमारे लिए गर्व की बात है।

anu बुध सित॰ 30, 01:29:00 pm 2009  

नाज है उन मांओं पर जिन्होंने अपनी बेटियों को बॉर्डर पर भेजने का साहस दिखाया है।

harseeta गुरु अक्तू॰ 01, 07:55:00 am 2009  

भारत ने ही तो महान नारियों को जना है, बॉर्डर की बयार बदलने वाली बेटियों को साधुवाद

जगदीश त्रिपाठी गुरु अक्तू॰ 01, 04:09:00 pm 2009  

भाई राजकुमार जी,
इस पोस्ट के लिए शुक्रिया। एक निवेदन है कि इसे कवर करने वाली भी एक बेटी ही है। आपने रिपोर्ट के इंट्रो में शायदा जी का नाम पढ़ा होगा। सो अगर लेखिका के नाम का भी जिक्र कर दें तो हम आभारी रहेंगे। खुद शायदा बाजी लौपटॉप कैमरे और कलम से लैस होकर इसकी कवरेज के लिए गई थीं। और अकेली ही।
जगदीश त्रिपाठी
मुख्य उपसंपादक
दैनिक भास्कर
चंडीगढ़

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP