राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

मंगलवार, सितंबर 15, 2009

पाक में हिन्दुओं पर हुए अत्याचार का जवाब है किसी के पास

कुछ समय पहले हमने एक ब्लाग में एक लेख पढ़ा था जिसमें लिखा गया था कि भारत-पाक के विभाजन का नुकसान तो मुसलमानों को उठाना पड़ा है। यह बात कम से कम हमारे गले तो उतरने वाली नहीं है। कारण यह कि हमने बचपन से यही सुना है कि पाकिस्तान में जितना अत्याचार हिन्दुओं पर किया गया वैसा अत्याचार कभी भारत में मुसलमानों पर नहीं हुआ है। अगर किसी मुसलमान पर हिन्दुओं ने अत्याचार किया है, तो कोई बताएं। हम यहां बताना चाहेंगे कि हमें हमारे पुर्वज बचपन से बताते रहे हैं कि पाकिस्तान में हिन्दुओं पर जो अत्याचार किए गए उसी के कारण उनको पाक से भारत आना पड़ा। हमें गर्व है हमारे पुर्वजों पर जिन्होंने हमें कभी मुसलमानों से नफरत करने की सीख नहीं दी।

हमने जिस दिन से एक ब्लाग में विभाजन का नुकसान मुसलमानों को उठाना पड़ा है, पढ़ा था, तभी से इस मुद्दे पर लिखना चाह रहे थे, पर समय नहीं मिल रहा था। आज सोचा कि चलों इस मुद्दे पर लिखने में विलंब करना ठीक नहीं है। हमें इस मुद्दे पर इसलिए लिखना पड़ रहा है क्योंकि पाकिस्तान में हमारे पुर्वजों पर भी अत्याचार हुए हैं जिसके बारे में हमने बचपन से सुना है। हमारे पुर्वज बताते थे कि किस तरह से पाकिस्तान में विभाजन के बाद हिन्दुओं पर अत्याचार किए गए और उनको मुस्लिम धर्म अपनाने के लिए मजबूर किया गया। हमें जो जानकारी मिली थी उसके मुताबिक हिन्दुओं की बहू-बेटियों के साथ जोर-जबरदस्ती भी की गई। कई हिन्दुओं ने वहां समझौता कर लिया और पाक में रह गए और जिन लोगों ने समझौता नहीं किया वे अपनी सारी जमीन-जायजाद छोड़कर भारत आ गए और वो भी खाली हाथ। यहां पर आने के बाद नए सिरे से मेहनत करके अपना आशियाना बनाया। हमारे पुर्वज भी पाक छोड़कर भारत आए। हमारा जन्म तो भारत में ही हुआ है, पर जन्म से पाक में हिन्दुओं पर हुए अत्याचार की बातें सुनते रहे हैं।

हम नहीं जानते हैं कि पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हुए अत्याचार में कितनी सच्चाई है, पर इतना जरूर है कि कोई भी परिवार अपने बच्चों को गलत जानकारी नहीं देता है। हमें इस बात पर गर्व है कि हमारे पुर्वजों ने यह तो जरूर बताया कि किस तरह से हिन्दु परिवारों पर मुसलमानों ने कहर बरपाया था, पर यह कभी नहीं कहा कि इसके बदले में हमें भी उनके साथ ऐसा करना चाहिए। शायद यह अपने हिन्दु धर्म की अच्छाई है जो अत्याचार करने वालों पर भी प्यार लुटाने की बात की जाती है। अगर ऐसा नहीं होता तो भारत में मुसलमानों पर भी ऐसे ही अत्याचार होते। हमें नहीं लगता है कि कभी किसी मुसलमान पर हिन्दु बनने के लिए किसी ने अत्याचार किए होंगे। भारत में ऐसे कई उदाहरण हैं जब मुसलमान देश के सर्वोच्च पदों पर रहे हैं। अपने देश के राष्ट्रपति के पद भी एक मुसलमान अब्दुल कलाम रहे हैं। फिर हम जानना चाहते हैं उन जनाब से कि कैसे विभाजन का नुकसान मुसलमानों को हुआ है। क्या किसी ने मुसलमानों को भारत छोडऩे के लिए मजबूर किया है। मुसलमानों के पास भी अपने देश में वो सारे अधिकार हैं जो एक नागरिक के होने चाहिए। फिर कैसे कहां जाता है कि विभाजन का नुकसान मुसलमानों को हुआ है।

हम पूछते हैं कि क्या किसी के पास इस बात का जवाब है कि क्यों कर हिन्दुओं के साथ पाक में अत्याचार किया गया था? क्यों उनको अपना धर्म छोडऩे के लिए मजबूर किया गया था? क्यों हिन्दुओं की बहू-बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ किया गया था? क्या पाक में रहने वाले हर नागरिक का मुसलमान होना जरूरी है? है किसी के पास इस बातों का जवाब तो जरूर दें।

13 टिप्पणियाँ:

संजय तिवारी ’संजू’ मंगल सित॰ 15, 07:13:00 am 2009  

आपका हिन्दी में लिखने का प्रयास आने वाली पीढ़ी के लिए अनुकरणीय उदाहरण है. आपके इस प्रयास के लिए आप साधुवाद के हकदार हैं.

आपको हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

shiv kumar,  मंगल सित॰ 15, 08:22:00 am 2009  

पाकिस्तान में तो हिन्दुओं के साथ मुसलमानों ने घारे अत्याचार किया था। उनके नंगे नाचे को पाक से भागकर किसी भी हिन्दु से पूछा जा सकता है। उनकी आंखों में आज भी उस मंजर का खौफ नजर आता है।

ganesh मंगल सित॰ 15, 08:33:00 am 2009  

हिन्दु धर्म किसी पर थोप नहीं गया है जिस तरह से लोगों को मुसलमान बनने के लिए मजबूर किया गया है, उस तरह से हिन्दु कभी ऐसा नहीं करते हैं।

पी.सी.गोदियाल मंगल सित॰ 15, 09:27:00 am 2009  

श्रीमान, हिन्दुओ पर हुए अत्याचार का भी कोई जबाब होता है क्या ? मै तो सोचता था की सिर्फ मुसलमानों और इसाइयों पर हुए अत्याचार का ही जबाब माँगा जाता है !

बेनामी,  मंगल सित॰ 15, 09:55:00 am 2009  

पाकिस्तान के नाम की माला जपने वाले मुसलमानों का क्या भारत में रहने का हक है, इस बारे में मुसलमान खुद अपने गिरेबा में झांक कर देख ले तो ज्यादा बेहतर होगा, उनको तो खुद से भारत छोड़कर पाकिस्तान चले जाना चाहिए।

जी.के. अवधिया मंगल सित॰ 15, 09:58:00 am 2009  

आपने विभाजन के समय हिन्दुओं पर हुए अत्याचार के विषय में सिर्फ सुना है। यदि इस विषय में पढ़ना चाहें तो श्री गुरुदत्त जी की पुस्तकों को पढ़ लीजिए। कुछ ही पुस्तकों को पढ़ कर इस विषय में बहुत सारी जानकारी मिल जाएगी। आश्रम लाइब्रेरी में अवश्य ही मिल जाएँगी गुरुदत्त जी के लिखे उपन्यास।

और यदि मैं यहाँ पर नथूराम गोडसे की लिखी पुस्तक (जो कि लिखने के बाद तत्काल बैन कर दी गई थी, वर्षों तक बैन रही और पता नहीं आज कहीं उपलब्ध है या नहीं) का नाम जोड़ दूँगा तो शायद मेरी गणना मुस्लिम विरोधी और गांधी विरोधी में होने लगेगी।

Rakesh Singh - राकेश सिंह मंगल सित॰ 15, 09:59:00 am 2009  

सेकुलर तो कह रहे हैं की हिन्दुओं पे अत्याचार हुआ ही नहीं | ये सब बातें धीरे से कान मैं कहो ... सेकुलर आके आपको संघी और साम्प्रदायिक का ठप्पा लगा जाएगा |

sanjana pal मंगल सित॰ 15, 10:01:00 am 2009  

विभाजन का नुकसान मुसलमानों की नहीं हिन्दुओं को हुआ है जिनको पाक के हिस्से से मुसलमानों से खदेड़ दिया।

संजय बेंगाणी मंगल सित॰ 15, 10:33:00 am 2009  

हे कट्टरपंथी हिन्दू, गंगा जमुना संस्कृति के दुश्मन, पाकिस्तान बनाने के लिए जिम्मेदार आदमी....हिन्दु भी कहीं इंसान होता है भला? खबरदार हमारे माई-बाप मुगलों के संतानों के बारे में प्रश्न उठाया. देखा नहीं गुजरात में कितना अत्याचार हो रहा है अल्पसंख्यको पर और तुम्हे हिन्दुओं की पड़ी है. पता नहीं क्यों पूरी दुनिया मासूमों के पीछे पड़ी है. कितने ही झूठे एनकाउंटर करते है. बताओ ऐसा कुछ भी हिन्दुओं के साथ हुआ है? उन्हे समझा बुझा कर मुसलमान या ईसाई बनाया जा रहा है, बस. वह भी सहन नहीं होता आप जैसे लोगों से?

kishor,  मंगल सित॰ 15, 11:16:00 am 2009  

संजय जी से सहमत

aalok tivari,  मंगल सित॰ 15, 11:18:00 am 2009  

क्या किसी के पास इस बात का जवाब है कि क्यों कर हिन्दुओं के साथ पाक में अत्याचार किया गया था? क्यों उनको अपना धर्म छोडऩे के लिए मजबूर किया गया था? क्यों हिन्दुओं की बहू-बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ किया गया था? क्या पाक में रहने वाले हर नागरिक का मुसलमान होना जरूरी है? है किसी के पास इस बातों का जवाब तो जरूर दें।
सही सवाल है

BS मंगल सित॰ 15, 12:06:00 pm 2009  

इन सब सवालों का जबाब बहुत आसान है

1. हिदु डरपोक हैं
2. अपने हक के लिये लड़ना नहीं आता
3. हिंदुओं को बस पैसे कमाने से मतलब है
4. हिन्दु इतिहास से कुछ नहीं सीखता
5. हिन्दु बदला लेना नहीं जानता

अगर लाखों हिन्दु भागने के बजाये हथियार उठा लें तो सब ठीक हो जाये। मुझे आज तक समझ में नहीं आया कि कश्मीर से भागने के बजाये हिन्दुओं ने हथियारों से मुकाबला क्यों नहीं किया? क्यों केवल अपने बाल कटाकर विरोध दर्जा रहे हैं।
अभी भी अगर लाखों कश्मीरी हिन्दु एक साथ हथियारों के साथ अपने घरों मे चले जायें तो कोई आतंकवादी कुछ नहीं कर पायेगा।

लेकिन अहिंसावादी हिन्दु ऐसा कभी करेंगे?

dhiru singh {धीरू सिंह} मंगल सित॰ 15, 08:17:00 pm 2009  

आप पकिस्तान की बात कर रहे है मैं तो पूछता हूँ हिन्दुस्तान में हिन्दूओ पर अत्याचार का जबाब है किसी के पास .

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP