राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

मंगलवार, दिसंबर 29, 2009

गुस्सा आए तो जाने राज पिछले जन्म का

एक महिला राह में जा रही है, उसको लोग गंदी नजरों से देख रहे हैं, उसको बहुत गुस्सा आ रहा है। यह कोई नई बात नहीं है, अपने देश में हर दूसरी महिला के साथ ऐसा होता है। लेकिन क्या ऐसा होने का मतलब यह है कि आपके साथ जरूर पिछले जन्म में ऐसा कुछ हुआ है जिसकी वजह से आपको गुस्सा आता है। अगर यह सच है तो जरूर हर दूसरी महिला के साथ पिछले जन्म में ऐसी कोई घटना हुई होगी जिसका लावा इस जन्म में फूट रहा है। दरअसल ऐसा होता नहीं है। लेकिन इसका क्या किया जाए कि अपने एनडीटीवी वालों को यही लगता है कि अगर किसी महिला को पुरुषों की नजरें देखकर ही गुस्सा आता है तो इसका मतलब यह है कि उस महिला के साथ पिछले जन्म में जरूर कुछ घटा है। इसी को प्रमाणित करने के लिए लगता है उन्होंने टीवी कलाकार संभावना सेठ के पिछले जन्म का राज खोलने का काम किया, जिनको बहुत ज्यादा गुस्सा आता है। यही नहीं टीवी वालों ने यह भी साबित कर दिया है कि अगर आप इस जन्म में हिन्दु हैं तो पिछले जन्म में मुसलमान या फिर किसी और धर्म के भी हो सकते हैं।

एनडीटीवी के बकवास कार्यक्रम में राज पिछले जन्म का में कल के एपीसोड में संभावना सेठ को बुलाया गया था। वह अपने पिछले जन्म का राज यह सोचकर जानने आई थीं कि उनको कोई पुरुष गलत नजरों से देखता है तो उनको बहुत ज्यादा गुस्सा क्यों आता है। अपने टीवी वालों को तो एक बकवास विषय चाहिए। इसमें कोई दो मत नहीं है कि ज्यादातर पुरुषों की गंदी नजरों का सामना हर दूसरी महिला को करना पड़ता है तो क्या इसका यह मतलब है कि हर दूसरी महिला पहुंच जाए एनडीटीवी वालों के दरबार में।

बहरहाल संभावना सेठ को जब डॉक्टर तृत्ति जैन उनके पिछले जन्म में ले गईं तो यह राज खोला गया कि वह पिछले जन्म में एक 18 साल की मुसलमान लड़की थीं, जिसकी एक 15 साल की बहन की बीमारी के कारण मौत हो जाती है क्योंकि इलाज कराने के लिए पैसे नहीं रहते हैं। यह तस्नीम नामक लड़की अपने मां और मामा के साथ रहती है, मामा उस पर गलत नीयत रखता है। वह अपने दोस्तों को भी घर लेकर आता है जो तस्नीम को पसंद नहीं है। तस्नीम एक जाकिर नाम के लड़के से प्यार करती हैं, वह अपने मामा की हरकतों के बारे में उसको बताती हैं और उसके साथ रहना चाहती हैं, पर जाकिर नहीं मानता तो तस्नीम कुछ देर के लिए कहीं चली जाती हैं, फिर वापस आती है तो जाकिर उसे उसके घर छोडऩे जाता है तो उसके मामा पहले जाकिर की पिटाई करते हैं, फिर उसके साथ जबरदस्ती करते हंै। उसके साथ बलात्कार हुआ या नहीं इसका खुलासा नहीं किया गया है।

यहां पर डॉक्टर जैन उनसे पूछती हैं कि तुम्हारे साथ कुछ क्या हो रहा है, क्या कुछ गलत हो रहा है, क्या तुम इसके बारे में कुछ बताना चाहती हो, तो अवचेतना में पड़ी संभावना सेठ का जवाब आता है कि वह कुछ बताना नहीं चाहती है। क्या यह संभव है कि अवचेतना में पड़े इंसान को इस बात का ज्ञान हो कि क्या सही है और क्या गलत कि वह यह सोचने लगे कि इसको बताना ठीक है या नहीं है।
तस्नीम के साथ उसका मामा संभवत: बलात्कार करने के बाद उसके भागने पर उसकी गला काटकर हत्या कर देता है। संभावना वापस चेतना में आने पर बताती है कि शायद यही वजह है कि मैं किसी की गलत नजरों को बर्दाश्त नहीं कर पाती हूं। वह बताती हैं कि उनको लगता था कि उनका मुस्लिम कौम से कोई गहरा नाता है, क्योंकि उनको मुस्लिम परिवेश अच्छा लगता है। किसी को मुस्लिम या फिर हिन्दु परिवेश अच्छा लगने का यह मतलब कतई नहीं होता है कि वह पिछले जन्म में उस कौम में पैदा हुआ था।

डॉक्टर जैन का यह तर्क बचकाना लगता है कि पिछले जन्म में उसके साथ जो कुछ हुआ था उसी का यह परिणाम है कि वह किसी पुरुष की गंदी नजरों को बर्दाश्त नहीं कर पाती है। तो क्या जिनके साथ ऐसा कुछ नहीं हुए रहता है वो पुरुषों की गंदी नजरों को बर्दाश्त कर लेती हैं।

इस दुनिया में ऐसी कौन सी महिला होगी जिनको किसी पुरुष की गंदी नजरों का सामना करने पर गुस्सा नहीं आता होगा। तो क्या हर वह महिला ऐसे ही किसे हादसे का शिकार हुई होंगी पिछले जन्म में। चलिए एनडीटीवी वालों के पास भेजा जाए ऐसी सारी महिलाओं को जिनको गुस्सा आता है, फिर देखें क्या राज खुलता है उनके पिछले जन्म। टीआरपी की भूख में ये टीवी वाले लोगों की आस्था के साथ भी खिलवाड़ करने लगे हैं। इस कार्यक्रम ने तो धर्मगंरथों में लिखी बातों को भी गलत साबित करने का काम किया है। ये तो सीधे एक जन्म के बाद सीधे दूसरे जन्म होने की बात करते हैं, क्या ऐसा संभव है? अब तक किसी कार्यक्रम में किसी के पिछले जन्म का प्रमाणित करने का काम नहीं किया गया है। क्या ये टीवी वाले किसी के पिछले जन्म के रिश्तेदारों को लाने का साहस दिखा सकते हैं। अगर उनके कार्यक्रम में सच्चाई है तो किसी के पिछले जन्म के रिश्तेदारों को भी खोजकर सामने लाया जाए।

6 टिप्पणियाँ:

बेनामी,  मंगल दिस॰ 29, 10:22:00 am 2009  

अच्छा

ललित शर्मा मंगल दिस॰ 29, 10:33:00 am 2009  

बोहनी हो गई है,
मेरा भी नम्बर आने वाला है राज पिछले जनम का मे, तब पता चलेगा पिछले जनम मे क्या हुआ था।

prabhat gopal मंगल दिस॰ 29, 11:10:00 am 2009  

raj pichle janm ka me sach kitna hai bhai...

उम्दा सोच मंगल दिस॰ 29, 01:29:00 pm 2009  

फ़ालतू की बात करता एन डी टी वी का ये कार्यक्रम

रंजना मंगल दिस॰ 29, 03:58:00 pm 2009  

Jitna hasyaspad ukt karykarm hai,usse tanik bhi manoranjak aapki yah post nahi...

Are aise gusaiye mat...bechare team waale kitna mehnat kar script banate hain ,unke mehnat ki to daad deni chahiye...

Lekin ek baat bada majedaar hai nahi..saare pratibhagi pichhle janm me manushy hi the,koi koua kutta gadha ya saanp nahi tha....

rakhiji ishu mahseeh ko manti hain,to sambhavna ji ka bhi kuchh hatkar allah miyan ko maanna swabhavik hai....samjha kijiye...

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP