राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, दिसंबर 31, 2009

डॉक्टर कर न पाएं दर्द का इलाज-तो जाने पिछले जन्म का राज

आपको शरीर में किसी खास स्थान पर लगातार दर्द है और डॉक्टरों के चक्कर काट-काट कर परेशान हो गए हैं। किसी भी डॉक्टर को यह बात समझ ही नहीं आ रही है कि आपके दर्द का कारण क्या है। ऐसे में चिंता की बात नहीं है आप भी पहुंच जाएं अपने एनडीटीवी वालों के पास और खुलवा ले राज अपने पिछले जन्म का। यकीन मानिए वे जरूर उस दर्द का आपके पिछले जन्म से रिश्ता निकाल कर दिखाएंगे। लेकिन इस बात की गारंटी नहीं रहेगी कि आपका दर्द समाप्त हो जाएगा।


वास्तव में अपने ये टीवी वाले पगला गए हैं लगता है जो पूरे देश भर में एक ऐसा अंध विश्वास फैलाने का काम कर रहे हैं जिससे बच पाना पढ़े लिखे लोगों के लिए भी संभव नजर नहीं आता है। एनडीटीवी के कार्यक्रम राज पिछले जन्म का में ज्यादातर पढ़े-लिखे लोग ही जा रहे हैं और वे भी इस टीवी कार्यक्रम के मोह में फंस कर अंधविश्वासी होते जा रहे हैं। हम कल के कार्यक्रम की बात करें तो पंजाबी फिल्मों की एक कलाकार मन्नत सिंह पहुंचीं थीं इस कार्यक्रम में इस वजह से की उनकी पीठ में लगातार पिछले 20 सालों से दर्द रहता है और कोई भी डॉक्टर न तो इसका कारण मालूम कर सका है और न ही इस दर्द से उनको निजात दिला सका है।


अब ऐसे में राज पिछले जन्म की डॉक्टर तृप्ति जैन ले जाती हैं मन्नत सिंह को अपने जादू के उस उडऩ खटोले पर जिस पर वह लोगों को लिटाकर पिछले जन्म की सैर करवाती हैं। चलिए हम लोग भी देखें कि इस सैर से क्या बात सामने आती हैं।


मन्नत सिंह को पिछले जन्म में ले जाकर दिखाया गया है कि वह लाहौर में एक मुस्लिम लड़की के रूप में जन्म लेती हैं, जहां उनका एक प्रेमी सुल्तान है। वहां पर 1947 के भारत-पाकिस्तान के दंगे दिखाए जाते हैं जिनसे घबराकर मन्नत सिंह जिनका पिछले जन्म में यास्मीन नाम रहता है अपने प्रेमी सुल्तान के साथ भागती हैं और जंगल में पहुंच जाती हैं, यहां पर उनके पीछे पाकिस्तानी सैनिक पड़ जाते हैं, इन सैनिकों में से एक का नाम वह मो। अली बताती हैं। ये सैनिक उनको और उनके प्रेमी को पहले तो पीठ में संगीन लगी बंदूकों से मारते हैं फिर यास्मीन को पीठ और सुल्तान के पेट में गोल मार देते हैं।


इस सारे वाक्ये को बताने के दरमियान डॉ। जैन यास्मीन से यह भी जान लेती हैं कि यास्मीन रावलपिंडी में महाराजा रणजीत सिंह और महारानी जिंदा की समाधि पर जाती हैं। जब दंगे होते हैं तब वह एक उर्दू अखबार देखती हैं जिसमें 1947 का साल लिखा है और इस अखबार में पंडित जवाहर लाल नेहरू के साथ मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर रहती हैं। इसी के साथ यास्मीन यह भी बताती हैं कि पूर्व जन्म में उनका जो प्रेमी रहता है वह इस जन्म में उनका दोस्त दक्ष है। जब मन्नत सिंह वापस अपने इस जन्म में लौटकर आती हैं तो उनके साथ आए उनके मित्र दक्ष भी यह कहते हैं कि उनको भी पेट में ठीक वहीं पर दर्द होता है जहां पर गोली लगी थी।


मान गए एनडीटीवी वालों को अब लगता है कि उनकी अक्ल काम करने लगी है, तभी तो अब वे ऐसे स्थानों को दिखाने का काम कर रहे हैं जिन स्थानों के बारे में लोग जानते हैं। सभी को मालूम है कि रावलपिंडी में राजा रणजीत सिंह और महारानी जिंदा की समाधि है। इस समाधि में इस जन्म में भी जाने की बात मन्नत सिंह ने की है। वह यह भी कहती हैं कि उनका मुस्लिम धर्म से जरूर कोई रिश्ता रहा है तभी तो उन्होंने अपना नाम सुखविंदर कौर से बदल कर मन्नत सिंह रख लिया है।


मात्र किसी स्थान के बारे में और उन दंगों के बारे दिखाने से क्या होगा जिनके बारे में सब जानते हैं। इन टीवी वालों की बातों पर महज इतने से कैसे यकीन किया जा सकता है। क्या ये टीवी वाले ऐसा कोई सबूत किसी भी एक पिछले जन्म के राज वाले का पेश कर सकेंगे जिनका राज इन्होंने खुलवाया है। क्या टीवी वाले मन्नत सिंह के उस दक्ष को उसी उडऩ खटोले में सुलाने की हिम्मत दिखा सकते हैं जिस पर मन्नत को सुलाया गया था। अगर नहीं तो फिर बेवकूफ बनाना बंद किया जाए दर्शकों को।

6 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari गुरु दिस॰ 31, 09:00:00 am 2009  

सोचता हूँ एक बार डॉ जैन से मिल लूँ...कोई एपाईन्टमेन्ट दिलवा दे!!

राजकुमार ग्वालानी गुरु दिस॰ 31, 09:18:00 am 2009  

समीर जी,
डॉक्टर जैन का तो हम नहीं जानते, लेकिन आपको अगर पिछले जन्म का राज जानना है तो हम खुशदीप सहगल से जरूर समय लेकर दे सकते हैं, वे ज्यादा अच्छे तरीके से राज खोलते हैं पिछले जन्म का। वैसे वे तो पहले आपके पिछले जन्म का ही राज खोलना चाहते थे, पर आप माने नहीं, लेकिन लगता है अब आपकी भी रूचि पैदा कर दी है इन डॉक्टर जैन की कलाकारी ने, तो फिर देर किस बात की है, कर ली जाए बात सहगल जी से।

ताऊ रामपुरिया गुरु दिस॰ 31, 10:39:00 am 2009  

डाक्तर खुशदीप अभी ताऊ के राज पर्दाफ़ाश करेंगे, उसके बाद उडनतश्तरी का नम्बर भी आने वाला है.:)

नये साल की आपको घणि रामराम.

रामराम.

ललित शर्मा गुरु दिस॰ 31, 12:35:00 pm 2009  

काहे लठ लेकर पड़े हो बेचारे गरीबन के, कमाने खाने दो। तुम भी मौज लो, वो एक बार हमारे को बुला ले सारे राज पर्दाफ़ाश हो जाएंगे, तृप्ति सोये्गी समय रथ पे फ़िर सारे राज हम निकलवालेंगे।
थोड़ा ठंड रखो भाई हमारा निमंत्रण अभी आने वाला है वहां से,

पुरे परिवार को नव वर्ष की शुभकानाएं। बच्चों को प्यार्।

लवली कुमारी / Lovely kumari शुक्र जन॰ 01, 12:42:00 am 2010  

जय हो ..और जनता कितनी मुर्ख है जो यह सब देख रही है और सच मान रही है

राज भाटिय़ा शुक्र जन॰ 01, 02:00:00 am 2010  

अरे बाबा काहे ताऊ का लठ्ठ ले कर इन की पोल खोल रहे है, है तो यह सब झूठ ही लेकिन आप ओर मै किस किस को सम्झायेगे, यह जनता जो पत्थर को दुध पिलाती हो वो क्या समझेगी... लेकिन नो प्रोबलम आप हमारे प्रोगराम मै आये"" राज!! अगले जन्म का""अगर यहां कोई बात झुठ लगे तो हम सजा के हक दार है...
चलिये अब...आप को ओर आप के परिवार को नववर्ष की बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाए

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP