राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, अगस्त 13, 2009

आ जा बेटा खुडू-डुडू

हर किसी को अंग्रेजी के पीछे भागते देखकर एक गांव वाले ने सोचा कि क्यों न यार मैं भी अपने बेटे को पढऩे के लिए किसी बड़े शहर के बड़े अंग्रेजी स्कूल में भेजूं। यह सोचकर उस ग्रामीण ने अपने बेटे को पढऩे के लिए एक शहर के एक बड़े से अंग्रेजी स्कूल में भेज दिया। जब बेटा छुट्टियों में घर आ रहा था तो उसने अपने पिता को खबर दी कि वह इस दिन इस ट्रेन ने आने वाला है। अब वह ग्रामीण अपने बेटे को लेने के लिए स्टेशन गया। जब दोपहर के समय ट्रेन आई तो ट्रेन से उतरते ही बेटे ने अपने पिता से सबसे पहले कहा

हाऊ डू यू डू फादर।

अब उस ग्रामीण को कुछ नहीं सुझा तो उसने जवाब में कहा

आ जा बेटा खुडू-डुडू

इसके बाद दोपहर का समय होने पर बेटे ने कहा

गुड ऑफटर नून फादर

इस पर ग्रामीण ने जो समझा उसके जवाब में उसने कहा कि

बेटा गुड तो घर में नहीं है, नून (यानी नमक, छत्तीसगढ़ी में नमक को नून कहा जाता है) अपनी मां से घर में जाकर मांग लेना।

जब बेटे को लेकर पिता घर पहुंचा तो फिर बेटे ने अपनी मां से वही कहा -

गुड ऑफर नून मदर

इस पर पिता ने नाराज होते हुए कहा कि अबे तेरे को स्टेशन में ही कहा था न कि घर में गुड नहीं है मां से नून मांग लेना फिर भी तू गुड मांगे जा रहा है।

10 टिप्पणियाँ:

sharda,  गुरु अग॰ 13, 07:54:00 am 2009  

वाकई मजा आ गया, हंसी के रोके नहीं रूक रही है आपके खुडू-डुडू से। क्या शब्द निकाला है।

rajni गुरु अग॰ 13, 08:26:00 am 2009  

क्या बात है खुडू-डुडू की

ziya,  गुरु अग॰ 13, 08:56:00 am 2009  

भाई ये आखिर खुडू-डुडू क्या बला है?

soniya,  गुरु अग॰ 13, 09:19:00 am 2009  

आपके नून का फडा मजेदार है

sushil varma,  गुरु अग॰ 13, 10:25:00 am 2009  

मजेदार है

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP