राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, जुलाई 02, 2009

बारिश की पडऩे लगी फुहार-अब छाएगी चाय-पकौड़ों की बहार





लंबे इंतजार के बाद अब बरखा रानी झूम-झूम कर बरसने लगी हैं। इसी के साथ मौसम सुहाना हो चला है। अब बारिश के सुहाने मौसम के साथ जैसे-जैसे रिमझिम फुहारे पडऩे लगेंगी, सबको पकौड़ों और चाय की याद सताएगी और सभी घरों में फरमाईशी कार्यक्रम प्रारंभ हो जाएंगे।

1 टिप्पणियाँ:

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa गुरु जुल॰ 02, 07:29:00 pm 2009  

ग्वालानी जी,
सत्यवचन, अभी-अभी एक प्लेट और प्याला निबटाया है।

आप सपरिवार सदा सुखी स्वस्थ तथा प्रसन्न रहें। यही कामना है।
देर के लिये क्षमा चाहता हूं।

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP