राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

गुरुवार, जून 11, 2009

छत्तीसगढ़ में तीसरी शताब्दी का शिवलिंग

सिरपुर में मिले पुरातात्विक खजाने के बाद बिलासपुर मार्ग में शिवनाथ नदी के तट पर बसे मनकू द्वीप में भी हो रही खुदाई में पुरातात्विक खजाना मिलने लगा है। वहां खुदाई में तीसरी शताब्दी के शिवलिंग के साथ नंदी के भी मिलने की खबर है। इसके पहले वहां पर पाषाणकाल के औजार मिल चुके हैं।

छत्तीसगढ़ के सिरपुर को एक तरफ जहां विश्व धरोहर में शामिल करवाने की कवायद चल रही है और वहां पर लाल किले की तर्ज पर लाइट एंड साउंड शो करवाने की योजना है, तो दूसरी तरफ अब बिलासपुर मार्ग में शिवनाथ नदी से लगे मनकू द्वीप की खुदाई में कई ऐतिहासिक वस्तुएं मिलने लगी हैं। यहां पर चल रही खुदाई में पाषाणकाल, वैदिक काल से लेकर कल्चुरी काल के इतिहास के अवशेष मिलने की संभावना जताई जा रही है। पूर्व में यहां पर पाषाणकाल के कुछ औजार मिल चुके हैं। अब यहां पर एक तीसरी शताब्दी का शिवलिंग मिला है साथ ही नंदी भी है। इसके मिलने की खबर मिलने पर मनकू द्वीप में लोगों की भीड़ जुटने लगी है, सभी इतने पुराने शिवलिंग के दर्शन करने के लिए उतावले हो गए हैं। द्वीप के बीच से मिले शिवलिंग के बारे में बताया जा रहा है कि यह लगभग तीन फीट का है। साथ में मिला नंदी दो फीट का है। शिवलिंग तो साबूत है जबकि नंदी खंडि़त हो चुका है।

चूंकि यह द्वीप शिवनाथ नदी के तट पर है ऐसे में ऐसा अनुमान है कि यहां पर जरूर शिव का प्राचीन मंदिर रहा होगा जिसकी वजह से नदी का नाम शिवनाथ नदी पड़ा है। मनकू द्वीप में शिवलिंग मिलने के बाद अब और संभावना बढ़ गई है कि यहां पर प्राचीन काल से जुड़ीं कर्इं वस्तुएं मिल सकती हैं। अब तक जो भी वस्तुएं वहां मिली हैं उनकी वहां पर प्रदर्शनी भी लगा दी गई है ताकि बाहर से आने वाले इनको देख सकें। वैसे मनकू द्वीप अब तक ईसाई समुदाय की आस्था का केन्द्र रहा है। बैतलपुर के पास बसे इस द्वीप में हर साल ईसाई समुदाय का एक बड़ा मेला लगता है जिसमें शामिल होने के लिए प्रदेश से ही नहीं बल्कि दूसरे राज्यों के ईसाई समुदाय के लोग आते हैं। वैसे इस मेले में हर जाति धर्म के लोग भी जाते हैं लेकिन मेले को ईसाई समुदाय के मेले के नाम से ज्यादा जाना जाता है।

8 टिप्पणियाँ:

PN Subramanian गुरु जून 11, 09:27:00 am 2009  

महत्वपूर्ण जानकारी. संभवतः यह मनकू द्वीक तालागांव से ज्यादा दूर नहीं होगा

neha गुरु जून 11, 09:33:00 am 2009  

अच्छी जानकारी है, आभार

RAJ,  गुरु जून 11, 10:19:00 am 2009  

बहुत ही अच्छी जानकारी....है....

asif ali,  गुरु जून 11, 10:35:00 am 2009  

अच्छी जानकारी है

sanjay sharma,  गुरु जून 11, 10:37:00 am 2009  

जानकारी देने के लिए शुक्रिया।

tina गुरु जून 11, 02:49:00 pm 2009  

ऐसी ही नई जानकारियों से अवगत कराते रहे

लोकेश Lokesh गुरु जून 11, 09:40:00 pm 2009  

अच्छी जानकारी है, आभार

शरद कोकास शुक्र जून 12, 12:41:00 am 2009  

लोगों को यह बताना ज़रूरी है कि यहाँ प्राप्त शिवलिंग पुरातात्विक धरोहर है चाहे उस काल में धर्म और कर्मकांड से उसका जो भी सम्बन्ध रहा हो. वर्तमान मे उस प्रदेश विशेष में व्याप्त धर्म के लोग भी इस बात का ध्यान रखें. यह शासन का भी दायित्व है.

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP