राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

शुक्रवार, जून 12, 2009

टोनही का आरोप लगाकर कर दी हत्या

छत्तीसगढ़ में सरकार द्वारा बनाए गए टोनही प्रताडऩा कानून के बाद भी लगातार प्रदेश में टोनही के नाम पर महिलाओं को प्रताडि़त करने का सिलसिला चल रहा है। इस कड़ी में बस्तर के आदिवासी अंचल में न सिर्फ एक महिला को लगातार साल भर से ज्यादा समय से प्रताडि़त किया जाता रहा, बल्कि अंत में उसे टोनही होने के संदेह में उसकी हत्या कर दी गई। मृतक महिला पर आरोप लगाया गया कि उसने अपने बेटे और भतीजे की जादू-टोने के माध्यम से जान ले ली है, जबकि दोनों बच्चों की मौत उल्टी दस्त से हुई है।


छत्तीसगढ़ में महिलाओं को टोनही के नाम से बरसों से प्रताडऩा का सामना करना पड़ रहा है। प्रदेश का शायद ही ऐसा कोई गांव होगा जहां पर टोनही की बातें नहीं होती हैं। किसी के घर में किसी की असमय मौत हो जाती है और आस-पास कोई थोड़ी सी भी संदिग्ध महिला रहती है तो उसे जरूर टोनही का दर्जा देकर प्रताडि़त किया जाता है। दूसरी महिलाओं की तो बातें ही छोड़ दे, अनपढ़ लोग तो अपने परिवार की ही महिलाओं को टोनही समझ कर उसकी हत्या तक कर डालते हैं। ऐसा ही एक मामला बस्तर के आदिवासी अंचल का सामने आया है। जगदलपुर से करीब 9 किलो मीटर दूर नगरनार थाने के अंतर्गत आने वाले गांव कलचा में एक महिला को उसके पति और रिश्तेदारों ने टोनही होने के संदेह में मार डाला। घटना कुछ इस प्रकार है कि मृतक महिला मंगल देई के पति हरीबंधु को इस बात का शक था कि उनकी 10 साल की पुत्री कलावती के साथ भाई की 9 साल की पुत्री बुधरी की मौत मंगल देई के जादू-टोने के कारण हुई है। ऐसे में हरीबंधु ने अपने अपने भाई कमलसाय और अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर अपनी पत्नी मंगल देई की डंडों से पीट-पीटकर हत्या कर दी। मंगल देई बार-बार दुहाई देती रही कि उसने ऐसा नहीं किया है। वह बिलखती रही कि वह भला कैसे अपनी ही बेटी ही हत्या कर सकती है, पर संदेह मे पगलाए परिवार ने उसकी एक न सुनी और उसकी जान लेकर ही माने। हकीकत यह है कि दोनों बच्चों की मौत जादू-टोने से नहीं बल्कि उल्टी-दस्त से हुई है। लेकिन हरीबंधु का परिवार यह बात मानने को तैयार नहीं है। मंगल देई को तो पिछले एक साल से गांव भर में टोनही के आरोप में प्रताडि़त किया जाता रहा है। अब मंगल देई की मौत के बाद जहां गांव में मातम का माहौल है, वह ग्रामीण इस मामले में कुछ भी बताने को तैयार नहीं है।

महिला मंगल देई के पति हरीबंधु को इस बात का शक था कि उनकी 10 साल की पुत्री कलावती के साथ भाई की 9 साल की पुत्री बुधरी की मौत मंगल देई के जादू-टोने के कारण हुई है। ऐसे में हरीबंधु ने अपने अपने भाई कमलसाय और अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर अपनी पत्नी मंगल देई की डंडों से पीट-पीटकर हत्या कर दी। मंगल देई बार-बार दुहाई देती रही कि उसने ऐसा नहीं किया है। वह बिलखती रही कि वह भला कैसे अपनी ही बेटी ही हत्या कर सकती है, पर संदेह मे पगलाए परिवार ने उसकी एक न सुनी और उसकी जान लेकर ही माने।


छत्तीसगढ़ में हुआ यह पहला मामला नहीं है। ऐसे मामले यदा-कदा होते रहते हैं। टोनही के संदेह में कई महिलाओं को अपनी जान गंवानी पड़ी है। कई महिलाओं को तो टोनही के संदेह में गांव भर में कई बार नंगा भी घुमाया गया है। प्रदेश में टोनही प्रताडऩा का कानून होने के बाद भी सरकार अब तक टोनही के मामले में कोई खास सफलता प्राप्त नहीं कर सकी है। इस मामले में महिला आयोग जनजागरण अभियान भी चला रहा है, लेकिन गांव वाले अंधविश्वास से बाहर ही आना नहीं चाहते हैं। अनपढ़ों की बातें ही क्या पढ़े-लिखे लोग भी टोनही पर भरोसा करते हैं। टोनही क्या है कोई नहीं जानता है। अगर वास्तव में कोई टोनही जैसी चीज होती है तो शायद हमने भी उनके साथ कई बार रात में लंबा रोमांचक सफर तय किया है। हमें नहीं मालूम हमने जिनके साथ ऐसा सफर तय किया था वो क्या थीं लेकिन ऐसा सफर हमने जरूर किया था आप देंखे हमारी पोस्ट टोनहियों के साथ लंबा सफर

बहरहाल टोनही के बारे में लोग तरह-तरह की बातें बताते हैं, लेकिन जहां तक हमारा मानना है कि उसे किसी ने अब तक देखा नहीं होगा। हमने जो टोनही के बारे में सुना है उसके मुताबिक यह एक तंत्र साधना है जिसको सीखने वाली महिला को टोनही और पुरुष को टोनहा कहा जाता है। वैसे टोनहा के बारे में कम और टोनही के बारे में ज्यादा बातें होती हैं। इनके बारे में कुछ लोग कहते हैं कि यह रात को निकलती है और खेत-खलिहानों में ही विचरण करती है, यह कभी रोड को क्रास नहीं कर पाती है। दूर से वह जलती हुई दिखती है तो इसके बारे में लोग बताते हैं कि उसके मुंह से निकलने वाली लार ही आग के रूप में रहती है। इसी के साथ कहा जाता है कि वह जमीन से कुछ फीट ऊपर हवा में हवा की तरह ही चलती है। अब इन बातों में कितनी सच्चाई है हम भी नहीं जानते हैं। लेकिन हमको दो-तीन बार रात के सफर में ऐसे दृश्य देखने का मौका मिला है जिसके बारे में लोगों की सुनाई बातों से आधार पर हम कह सकते हैं कि हमने जिनको दूर से देखा था वो टोनही थी और हमने उनसे साथ एक रोमांचकारी सफर तय किया। अक्सर लोग गांवों में किसी से दुश्मनी से निकालने के लिए किसी पर भी टोनही होने का आरोप लगाकर उसके साथ कुछ भी कर लेते हैं। कई बार टोनही के नाम पर प्रताडऩा सीमाएं लांघ जाती हैं। जैसा की बस्तर में हुआ है कि टोनही के नाम पर एक महिला की हत्या ही कर दी गई। पता नहीं कब अपने देश के लोग ऐसे अंधविश्वासों से बाहर आएंगे।

12 टिप्पणियाँ:

vivek kumar,  शुक्र जून 12, 09:43:00 am 2009  

जादू-टोना तो होता है, पर बिना किसी सबूत के किसी महिला की हत्या करना कहां का न्याय है। ऐसा अपराध करने वालों को फांसी की सजा देनी चाहिए।

neha शुक्र जून 12, 09:45:00 am 2009  

टोनही के नाम से महिलाओं की ही हमेशा क्यों प्रताडि़त किया जाता, क्या पुरुषों को कभी टोनहा के नाम से प्रताडि़त करने की कोई खबर आई है।

rajni शुक्र जून 12, 10:00:00 am 2009  

टोनही के नाम पर महिलाओं को प्रताडि़त करने वालों को कड़ी सजा देनी चाहिए।

manis,  शुक्र जून 12, 10:23:00 am 2009  

छत्तीसगढ़ की सरकार को ऐसे मामलों में कड़ा रूख अपनाना चाहिए

Anil Pusadkar शुक्र जून 12, 10:40:00 am 2009  

अफ़सोस है राजकुमार इस मामले मे कुछ हो नही पा रहा है।इस पर नियंत्रण के लिये बनी पुलिस की एक कमेटी का मै भी सदस्य हूं मगर तुम तो जान्ते ही हो यंहा का काम काज़्।

sammer शुक्र जून 12, 10:45:00 am 2009  

कब तक महिलाएं प्रताडि़त की जाती रहेंगी।

RAJNISH PARIHAR शुक्र जून 12, 11:35:00 am 2009  

आज भी जादू टोने की बातें आश्चर्यचकित करती है...

परमजीत बाली शुक्र जून 12, 01:25:00 pm 2009  

किसी को शक के कारण मारना निंदनीय है।वैसे भी जो किसी का बुरा करता है उस का फल भी बुरा ही होता है जो उसी को भोगना पड़ता है।इस तरह की हत्या करने वालों पर कानूनी कार्यवाही होनी चाहिए।

रंजना शुक्र जून 12, 04:19:00 pm 2009  

जब तक अशिक्षा रूपी दैत्य का दमन नहीं होगा....यह सिलसिला नहीं रोका जा सकेगा...केवल कानून किसी हालत में इसमें कारगर नहीं होगा.....

●๋• सैयद | Syed ●๋• शुक्र जून 12, 09:11:00 pm 2009  

नेहा जी से सहमत हूँ.. आज तक ऐसी घटनाएं सिर्फ महिलाओं के खिलाफ ही सुनी है...


.... आज के युग में भी ऐसी बाते हैरानी की बात है..

शरद कोकास शनि जून 13, 01:02:00 am 2009  

प्रतिक्रिया में कुछ नहीं सिर्फ एक कविता टोनही अर्थात डायन पर -शरद कोकास
डायन

वे उसे डायन कहते थे
गाँव में आन पड़ी तमाम विपदाओं के लिए
वही जिम्मेदार थी
उनका आरोप था
उसकी निगाहें बुरी है
उसके देखने से बच्चे बीमार हो जाते है
गर्भ गिर जाते है
बाढ़ के अंदेशे है उसकी नज़रों में
उसके सोचने से अकाल आते है

उसकी कहानी थी
एक रात तीसरे पहर
वह नदी का जल लेने गई थी
ऐसी ख़बर थी की उसके तन पर उस वक्त
एक भी कपड़ा न था

सर सर फैली यह ख़बर
कानाफूसियों में बढती गई
एक दिन
डायरिया से हुई एक बच्चे की मौत पर
वह डायन घोषित कर दी गई
किसी ने कोशिश नही की जानने की
उस रात नदी पर क्यों गई थी वह
दरअसल अपने नपुंसक पति पर
नदी का जल छिड़ककर
ख़ुद पर लगा
बाँझ का कलंक मिटाने के लिए
यह तरीका उसने अपनाया था
रास्ता किसी चालाक मान्त्रिक ने सुझाया था

एक पुरूष के पुरुषत्व के लिए
दुसरे पुरूष द्वारा बताया गया यह रास्ता था
जो एक स्त्री की देह से होकर गुजरता था
उस पर काले जादू का आरोप लगाया गया
उसे निर्वस्त्र कर दिनदहाडे
गलियों बाज़ारों में घुमाया गया
बच्चों ने जुलूस का समां बंधा
पुरुषों ने वर्जित दृश्य का मज़ा लिया
औरतों ने शर्म से सर झुका लिए

एक टिटहरी ने पंख फैलाए
चीखती हुई आसमान में उड़ गई
न धरती फटी
न आकाश से वस्त्रों की बारिश हुई.

राजकुमार ग्वालानी शनि जून 13, 09:42:00 am 2009  

शरद जी
इतनी अच्छी कविता हमारे ब्लाग में डालने के लिए हम आपके आभारी है। इस तरह का प्यार और स्नेह सदा बनाए रखें।

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP