राजनीति के साथ हर विषय पर लेख पढने को मिलेंगे....

बुधवार, जून 24, 2009

प्रिंस पहेली....

हम राजतंत्र के रायपुर के अंतरराष्ट्रीय चैनल से इस चैनल के मेजबान राजकुमार यानी की प्रिंस लिख रहे हैं। हम आज आपको ले जाने वाले हैं पहेली की एक ऐसी दुनिया में जिसका नाम हमने काफी सोचने के बाद प्रिंस पहेली रखा है। यह पहेली हमारी तब की धरोहर है जब हम कॉलेज में पढ़ते थे। तब हमने इस पहेली को कई लोगों के सामने रखा था, पर इसका जवाब नहीं मिल पाया था। आज जब हम ब्लाग जगत से जुड़े हैं और देख रहे हैं कि यहां पर धड़ाधड़ पहेलियों का दौर चल रहा है तो सोचा क्यों न हम भी एक ऐसी पहेली सबके सामने रखे दें जो सबके दिमाग की दही जमा दे। तो तैयार हो जाएं अपने दिमाग के घोड़ों को दौडऩे के लिए क्योंकि अब आने वाली है आपके सामने प्रिंस पहेली जिसका हल बताना आसान नहीं है। हम पहेली के हल के लिए फिलहाल एक सप्ताह का समय तय कर रहे हैं। आपको अपने दिमाग के घोड़ों को एक सप्ताह तक दौडऩा है। जब आपके दिमागी घोड़े मंजिल तक नहीं पहुंच पाएंगे तब हम बताएंगे आपको प्रिंस पहेली का हल। तो चले सवाल की तरफ....हमारा सवाल है...

हमें सोने के 100 हार बनवाने हैं।

हर हार होगा 10-10 तोले का।

हमें हार चूंकि जल्द चाहिए ऐसे में हम हार एक सोनार के स्थान पर 10 सोनारों को बनाने देते हैं।

एक-एक सोनार को दिए जाते हैं 10-10 तोले के 10-10 हार बनाने के लिए।

लोचा तब होता है जब हारों की डिलवरी के एक दिन पहले पता चलता है कि एक सोनार चोरी कर रहा है और 10 की बजाए 9-9 तोले के हार बना रहा है।

अब आपको उस चोर को पकडऩा है। चोर को पकडऩे के लिए हर सोनारे के हारे तौलने से ही चोर को पकडऩे का आसान तरीका है। लेकिन चोर को पकडऩे के लिए आपको हारों को एक बार तोलकर ही उस चोर को पकडऩा है। याद रहे तोल सिर्फ एक बार होगी। और हारों को तोलना भी जरूरी है। अब आपको बताना यह है कि किस तरह से मात्र एक बार तोलकर चोर को पकड़ा जा सकता है।

तो शुरू हो जाए अपने दिमाग के घोडों को दौडऩे के लिए।

हमें इंतजार रहेगा आपके जवाबों का ।

16 टिप्पणियाँ:

Anil Pusadkar बुध जून 24, 08:37:00 am 2009  

तुम तो जानते हो राजकुमार गणितबाज़ी से अपन शुरू से ही दूर रहते आयें है।

guru बुध जून 24, 09:15:00 am 2009  

बड़ी दूर की कौड़ी लाए हैं गुरु

ajay बुध जून 24, 09:47:00 am 2009  

जैसा नाम वैसी पहेली, चलो देखते हैं एक सप्ताह का समय बहुत होता है।

Kashif Arif बुध जून 24, 10:08:00 am 2009  

क्या बात है आज कल सब पहेली ही पहेली पूछ रहें है...

अभी मुड नही है बाद मे जवाब देंगे

हमारा हिन्दुस्तान

harseeta बुध जून 24, 10:11:00 am 2009  

यह तो सच में दिमाग का दही करने वाली पहेली है

sanjay,  बुध जून 24, 10:21:00 am 2009  

एक और पहेली गजब हो गया यार

asif ali,  बुध जून 24, 02:55:00 pm 2009  

दिमागी घोड़ों को सुबह से ही दौड़ाने का काम कर रहे हैं पर जवाब नहीं सूझ रहा है। एक सप्ताह तक इंतजार करना भी मुश्किल लग रहा है क्या उससे पहले सवाल का जवाब मालूम नहीं हो सकता है।

sammer बुध जून 24, 03:04:00 pm 2009  

भाई ये कैसी बला वाली पहेली है जिसका हल सूझ ही नहीं रहा है।

अविनाश वाचस्पति बुध जून 24, 03:08:00 pm 2009  

इनाम के रूप में पेशगी
एक 10 तोले वाला सोने का हार
यदि भेज सकें तो
उत्‍तर मनमाफिक प्राप्‍त होगा
सिर्फ एक बार में ही।

राजकुमार ग्वालानी बुध जून 24, 03:40:00 pm 2009  

आसिफ जी,
अगर एक सप्ताह में कोई ज्ञानी इस पहेली का हल नहीं बता पाया तो आपको हो सकता है एक सप्ताह और इंतजार करना पड़े। हम किसी को यह बोलने का मौका नहीं देना चाहते हैं कि हमें तो मालूम ही नहीं था और हम तो इसको हल कर सकते थे। आप एक सप्ताह तक दिमागी घोड़ों को दौड़ाने का अभ्यास करते रहे हो सकता है मंजिल आपको मिल जाए, नहीं मिली तो मंजिल का पता तो हम बता ही देंगे। वैसे भी कहा जाता है कि इंतजार का फल मीठा होता है, तो थोड़ा इंतजार करने में क्या जाता है मित्र

राजकुमार ग्वालानी बुध जून 24, 03:44:00 pm 2009  

अविनाश जी,
10 तोले सोना के हार से ज्यादा कीमती हम 100 तोले वाले प्यार और स्नेह का हार जरूर देने को तैयार हैं। बस आप जवाब तो बताएं हुजूर।

पंगेबाज बुध जून 24, 04:14:00 pm 2009  

भाइ, हल बहुत सरल है
पहले सुनार का एक, दूसरे के दो, तीसरे के तीन, चौथे के चार, पांचवे के पांच, छठवे के छ्ह, सातवें के सात, आठवे के आठ नवें के नौ और दसवें के दस हार लेकर एकसाथ तौल लो

कुल हार हुए 55 यानी कुल वजन होना चाहिये 550 तोला...

यदि इसका वजन 549 आये तो पहला, 548 तो दूसरा, 547 तो तीसरा, 546 तो चौथा, 545 तो पांचवा, 544 तो छठा, 543 तो सातवां, 542 तो आठवां, 541 तो नवां, 540 तो दसवां सुनार बेईमान है

Udan Tashtari बुध जून 24, 04:27:00 pm 2009  

सी बी आई का मामला दिखता है. हमारी तो यही सलाह है कि आप भी हाथ न डालो. सालों साल का चक्कर बैठ जायेगा और उपर से लाई डिटेक्टर और ब्रेन मैपिंग का पंगा-पता चला पहेली के चक्कर में कोई दूसरा केस उगल आये तो अन्दर ही न हो जाओ.

बात चीत करके मामला सलटा लो. कहाँ तौला ताली के चक्कर में पड़ रहे हो.

ताऊ रामपुरिया बुध जून 24, 05:53:00 pm 2009  

भाई जरा समीरजी की बात पर ध्यान दिया जाये.:)

रामराम.

अविनाश वाचस्पति बुध जून 24, 06:24:00 pm 2009  

मतलब चाहे जीतें
पर आप देंगे हार ही
फिर हम क्‍यों करें स्‍वीकार जी
जीतकर पहनते तो क्‍या होता
हमने हार कर पहन लिया हार जी
जय हो
मनता रहे रोजाना
पहेलियों का त्‍योहार जी।

Jayant Chaudhary शुक्र जून 26, 01:25:00 am 2009  

मैंने देर से उत्तर लिखा है...
किन्तु यकीन करें किसी का भी उत्तर पढा नहीं है...

उत्तर:
१) पहले सुनार से एक हार लें.
२) दुसरे से दो.
३) तीसरे इस तीन.
४) चौथे से चार...
ऐसे चलते रहें...
१०) दसवें से दसों.

कुल जमा ५५ हार.. और यदि हर एक १० तोले का है तो कुल ५५० तोले होना चाहिए.
अब तौल करें सब ५५ हारों को एक साथ रख कर...

१) यदि... ५४९ तोले हुए तो पहले सुनार ने चोरी की.
२) ५४८ तोले हुए तो दूसरे ने.
३) ५४७ तोले हुए तो तीसरे ने.
४) ५४६ तोले हुए तो चौथे ने.
५) ५४५ तोले हुए तो पाँचवे ने.
ऐसे चलते रहें...
१०) ४४० तोले हुए तो दसवें ने..

ठीक कहा???

~जयंत

Related Posts with Thumbnails

ब्लाग चर्चा

Blog Archive

मेरी ब्लॉग सूची

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP